सपनों को साकार करने का जुनून, एक पैर पर 2 किमी पैदल चलकर स्कूल जाता है यह कश्मीरी लड़का

 श्रीनगर
 
जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में परवेज नाम का विकलांग लड़का एक पैर पर चलकर स्कूल जाता है। बहुत ही कम उम्र में भीषण आग हादसे में अपना बायां पैर खोने के बावजूद उसने अपने सपनों को पीछे नहीं छोड़ा है। परवेज वर्तमान में नौगाम के सरकारी हाई स्कूल में कक्षा 9 में पढ़ रहा है। 14 साल के बच्चे ने कहा, "मैं एक पैर पर संतुलन बनाते हुए रोजाना करीब दो किलोमीटर की दूरी तय करता हूं। सड़कें अच्छी नहीं हैं। अगर मुझे कृत्रिम अंग मिल जाए तो मैं चल सकता हूं। मेरे पास जीवन में कुछ हासिल करने का सपना है। समाज कल्याण विभाग ने व्हीलचेयर दी थी, लेकिन गांव की सड़कों की हालत खराब होने के कारण इसे कभी इस्तेमाल नहीं किया गया।"
 
'2 किमी पैदल चलकर जाता हूं स्कूल'
परवेज ने कहा, "मैं अपने स्कूल तक पहुंचने के लिए प्रतिदिन 2 किलोमीटर पैदल चलता हूं। मेरे स्कूल पहुंचने का रास्ता क्षतिग्रस्त है। स्कूल पहुंचने के बाद मुझे बहुत पसीना आता है क्योंकि मेरे लिए चलना मुश्किल है। मैं स्कूल पहुंचने के बाद प्रार्थना करता हूं। मुझे क्रिकेट, वॉलीबॉल, कबड्डी और क्रिकेट पसंद है। मुझे उम्मीद है कि सरकार मेरे भविष्य को आकार देने में मेरी मदद करेगी। मेरे अंदर अपने सपनों को हासिल करने की आग है।"

सरकार से मुझे कृत्रिम अंग देने की अपील
अपने अनुभवों को आगे साझा करते हुए 14 वर्षीय ने कहा, "मुझे यह देखकर दुख होता है कि मेरे दोस्त ठीक से चल सकते हैं लेकिन मैं नहीं। हालांकि, मुझे शक्ति प्रदान करने के लिए मैं अल्लाह को धन्यवाद देता हूं। मैं सरकार से मुझे कृत्रिम अंग देने का आग्रह करता हूं। अंग या परिवहन का कोई अन्य साधन हो जो स्कूल और अन्य स्थानों पर मेरी यात्रा को आसान बना दे। एक अस्पताल में डॉक्टरों ने ऑपरेशन किया था जिसके लिए मेरे पिता को बड़ी राशि का भुगतान करना पड़ा। मेरे पिता को मेरे इलाज के लिए अपनी संपत्ति बेचनी पड़ी।"

 

Related Articles

Back to top button