जापान दौरे पर आज से PM मोदी, क्वाड शिखर सम्मेलन 2022 में बाइडेन से अहम मुलाकात

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जापान में क्वाड शिखर सम्मेलन के लिए लगभग 40 घंटे के अपने प्रवास के दौरान विश्व के तीन नेताओं के साथ बैठक सहित 23 कार्यक्रमों में शामिल होंगे. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. सूत्रों ने बताया कि मोदी टोक्यो में 24 मई को क्वाड शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और ऑस्ट्रेलिया तथा जापान के प्रधानमंत्रियों के साथ शामिल होंगे. सूत्रों ने बताया कि वह 36 से अधिक जापानी सीईओ और सैकड़ों भारतीय प्रवासी सदस्यों के साथ बातचीत करेंगे.

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री एक रात तोक्यो में बितायेंगे और दो रात विमान में यात्रा करेंगे. यूक्रेन पर रूसी हमले के बीच हो रहे शिखर सम्मेलन के दौरान मोदी बाइडन और जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे. मोदी अपने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष के साथ भी द्विपक्षीय बैठक करेंगे. विदेश मंत्रालय ने कहा था, जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा के निमंत्रण पर, प्रधानमंत्री मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री के साथ 24 मई 2022 को तोक्यो में तीसरे क्वाड शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे.

मंत्रालय ने कहा था कि आगामी क्वाड शिखर सम्मेलन नेताओं को हिंद-प्रशांत क्षेत्र के घटनाक्रम और पारस्परिक हित के समकालीन वैश्विक मुद्दों के बारे में विचारों का आदान-प्रदान करने का अवसर प्रदान करेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और क्वाड के अन्य नेताओं के 24 मई को तोक्यो में होने वाले शिखर सम्मेलन में हिंद-प्रशांत क्षेत्र की चुनौतियों और अवसरों के साथ-साथ कई मुद्दों पर विचार-विमर्श करने की उम्मीद है. कोविड-19 के बाद अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने, स्वास्थ्य सुरक्षा, टिकाऊ आधारभूत ढांचा और आपूर्ति श्रृंखला जैसे मुद्दों पर भी बातचीत होगी. विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा ने शनिवार को यह जानकारी दी. विदेश सचिव ने मोदी के जापान दौरे को लेकर संवाददाता सम्मेलन में कहा कि विश्व समुदाय और भारत के भागीदारों ने संघर्ष पर नयी दिल्ली के रुख के लिए सराहना की है.

उन्होंने कहा कि अस्थिरता शुरू होने के समय से ही भारत ने अस्थिरता को तत्काल समाप्त करने का आह्वान किया और वह जोर देता रहा है कि इसे हल करने के लिए बातचीत सबसे अच्छी नीति है. क्वात्रा ने कहा कि क्वाड नेताओं से एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी हिंद-प्रशांत के दृष्टिकोण पर विचार-विमर्श करने की उम्मीद है और वे गठबंधन के ढांचे के तहत अब तक हुई प्रगति का जायजा लेंगे तथा भविष्य के लिए मार्गदर्शन करेंगे.

यह पूछे जाने पर कि क्या क्वाड शिखर सम्मेलन में भारत के साथ लगी सीमा सहित क्षेत्र में चीन के आक्रामक रुख पर भी चर्चा होगी, क्वात्रा ने कहा कि नेताओं के विचार-विमर्श के एजेंडे के अनुसार हिंद-प्रशांत क्षेत्र में 'चुनौतियों और अवसरों' पर चर्चा करने की उम्मीद है. उन्होंने कहा, पहले शिखर सम्मेलन के बाद से क्वाड हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति, समृद्धि और स्थिरता की खातिर मजबूत फोकस के साथ सकारात्मक और रचनात्मक एजेंडे को लागू करने के लिए काम कर रहा है.

Related Articles

Back to top button