पुष्कर सिंह धामी को उपचुनाव में मिली रिकॉर्ड जीत, प्रतिष्ठा बढ़ी और CM की कुर्सी बची

 देहरादून
 
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत विधानसभा चुनाव में उम्मीद के मुताबिक जीत हासिल कर ली है। उन्होंने रिकॉर्ड 54 हजार वोटों से कांग्रेस की निर्मला गहतोड़ी को हरा दिया है। मुख्यमंत्री के खिलाफ लड़ रहीं कांग्रेस प्रत्याशी जमानत भी ना बचा सकीं। इस जीत के साथ ही जहां पुष्कर धामी ने अपनी कुर्सी बचा ली है तो खटीमा में मिली खटास भी दूर हो गई है। लगातार दूसरी बार भाजपा को सत्ता में लाने वाले पुष्पकर ने इस जीत से खुद को 'फायर' साबित किया है।

2017 से 2022 के बीच उत्तराखंड में भाजपा को तीन मुख्यमंत्री बदलने लड़े। लेकिन एक बार जब युवा धामी को कमान मिली तो उन्होंने जिस तरह कुछ महीनों में ट्रेलर दिखाया, जनता ने 5 साल के लिए दोबारा उन्हें मौका दिया। हालांकि, भाजपा के रंग में भंग उस समय पड़ गया जब धामी खुद खटीमा से कांग्रेस प्रत्याशी भुवन चंद्र कापड़ी से मुकाबले में 5800 वोटों से हार गए। खटीमा से हार के बावजूद भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने धामी को राज्य की कमान सौंपी।

चंपावत सीट से जीते भाजपा के कैलाश गहतोड़ी ने मुख्यमंत्री के लिए सीट खाली कर दी। कांग्रेस ने सीएम के खिलाफ निर्मला गहतोड़ी को मैदान में उतारा। लेकिन वह जमानत भी नहीं बचा सकीं। निर्मला को महज 3145 वोट हासिल हुए। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की बड़ी जीत सुनिश्चित करने के लिए प्रचार में कैबिनेट मंत्रियों ने पूरी ताकत झोंक दी थी। इसके अलावा चार विधायक 15 दिनों से दुर्गम इलाकों में डटे रहे। खुद धामी ने यहां कई बार प्रचार किया तो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी उनके लिए रैली की।

 

Related Articles

Back to top button