रूस को भी पाकिस्तान से परहेज, समरकंद में शरीफ के साथ नहीं होगी PM मोदी और पुतिन की बैठक

नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15-16 सितंबर को 22वें शंघाई सहयोग संगठन (SCO) सम्मेलन में भाग लेने के लिए समरकंद जाएंगे। यहां उनके कई देशों के राष्ट्राध्यक्षों से द्विपक्षीय बैठक की भी संभावना है। हालांकि, इस बात की कम ही संभावना है कि पीएम मोदी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के साथ कोई बैठक करें। हालांकि, पाकिस्तान में जो बाढ़ के हालात हैं उसे देखते हुए मुलाकात की संभावना से इनकार भी नहीं किया जा सकता है।

पीएम मोदी ने 2015 में रूस के उफा में आयोजित एससीओ शिखर सम्मेलन के दौरान पाकिस्तान के तत्कालीन पाक पीएम नवाज शरीफ से मुलाकात की थी। इसके बाद भी भारत-पाकिस्तान के संबंधों में कोई सुधार नहीं हुआ है। पाकिस्तान में आतंकी ढांचे फल-फूल रहे हैं। जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए सीमा पार से किए जा रहे प्रयासों में भी कोई कमी नहीं दिख रही है।

यूक्रेन को हथियारों की आपूर्ति के लिए ब्रिटेन के द्वारा पाकिस्तान को एक हवाई-पुल के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा अमेरिका ने भी पाकिस्तान की वायु सेना को F16 की आपूर्ति की है। पाकिस्तान वायु सेना के F16 बेड़े का इस्तेमाल आतंकवाद विरोधी अभियानों के बजाय भारत के खिलाफ करने की कोशिश की जाती है। शहबाज शरीफ की रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बैठक की भी कम संभावना है। पाकिस्तान के करीबी सहयोगी चीन और तुर्की और अजरबैजान के नेताओं के शरीफ से मिलने की उम्मीद है।

 

Related Articles

Back to top button