Subrata Roy Sahara News : सुब्रत रॉय का कल लखनऊ में होगा अंतिम संस्कार, चार्टर प्लेन से लाया जा रहा पार्थिव शरीर

Subrata Roy Sahara News : सुब्रत रॉय का गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे विपुल खंड से अंतिम यात्रा निकाली जाएगी. अंतिम यात्रा शहर के अंबेडकर चौराहा, गांधी सेतु होते हुए 1090 चौराहा से मुड़कर बैकुंठ धाम पहुंचेगी और अंतिम संस्कार होगा.

Latest Subrata Roy Sahara News : उज्जवल प्रदेश, लखनऊ. सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय का मंगलवार (14 नवंबर) को मुंबई में निधन हो गया। उन्होंने 75 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। सुब्रत रॉय का मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में इलाज चल रहा था। वह पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे। समाचार एजेंसी पीटीआई ने सहारा ग्रुप की प्रेस विज्ञप्ति के आधार पर खबर जारी की है।

सुब्रत रॉय का पार्थिव शरीर दोपहर में अमौसी एयरपोर्ट पहुंचेगा. वहां से सीधे गोमतीनगर में विपुल खंड स्थित उनके आवास सहारा शहर पहुंचेगा. गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे विपुल खंड से अंतिम यात्रा निकाली जाएगी. अंतिम यात्रा शहर के अंबेडकर चौराहा, गांधी सेतु होते हुए 1090 चौराहा से मुड़कर बैकुंठ धाम पहुंचेगी और अंतिम संस्कार होगा.

मुंबई से पार्थिव शरीर लखनऊ ले जाने की तैयारी

सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय का पार्थिव शरीर आज लखनऊ लाया जा रहा है. मुंबई के कोकिलाबेन हॉस्पिटल से पार्थिव शरीर एयरपोर्ट के लिए निकलेगा. एयरपोर्ट गेट नंबर 8 से एंबुलेंस अंदर जाएगी. मुंबई से चार्टर प्लेन से पार्थिव शरीर को लखनऊ ले जाया जाएगा.

यूपी के सीएम ने दुख जताया

UP के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सुब्रत रॉय के निधन पर शोक जताया. योगी ने एक्स पर लिखा, सहारा समूह के प्रमुख श्री सुब्रत रॉय जी का निधन अत्यंत दुःखद है. प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान तथा शोकाकुल परिजनों को यह अथाह दुःख सहने की शक्ति दें. ॐ शांति!

सुब्रत रॉय के निधन पर सहारा इंडिया परिवार ने जारी किया बयान

सुब्रत रॉय के निधन पर सहारा इंडिया परिवार ने बयान जारी किया है. इसमें कहा, सहारा इंडिया परिवार को अत्यंत दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि हमारे मैनेजिंग वर्कर और चेयरमैन ‘सहाराश्री’ सुब्रत रॉय सहारा का निधन हो गया है. सहाराश्री जी एक प्रेरणादायक और दूरदर्शी व्यक्तित्व थे. मेटास्टैटिक मैलिंगनैंसी, हाई ब्लड प्रेशर और शुगर की बीमारियों के साथ एक लंबी लड़ाई के बाद कार्डियोरेस्पिरेटरी अरेस्ट के कारण 14 नवंबर 2023 को रात 10.30 बजे उनका निधन हो गया.

स्वास्थ्य में गिरावट के बाद उन्हें 12 नवंबर 2023 को कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल और मेडिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट (केडीएएच) में भर्ती कराया गया था. उनकी क्षति पूरे सहारा इंडिया परिवार को गहराई से महसूस होगी. सहाराश्री जी उन सभी के लिए एक मार्गदर्शक शक्ति, मार्गदर्शक और प्रेरणा के स्रोत थे, जिन्हें उनके साथ काम करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था. अंतिम संस्कार के संबंध में विवरण उचित समय पर सूचित किया जाएगा. सहारा इंडिया परिवार सहाराश्री की विरासत को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है. हम हमारे संगठन को आगे बढ़ाने में उनके दृष्टिकोण का सम्मान करना जारी रखेंगे.

सुब्रत रॉय के निधन पर समाजवादी पार्टी ने दुख जताया है। सपा ने उनके निधन पर दुख जताते हुए एक्स पर लिखा, “सहाराश्री सुब्रत रॉय का निधन, अत्यंत दुःखद। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें। शोकाकुल परिजनों को ये असीम दुःख सहने का संबल प्राप्त हो। भावभीनी श्रद्धांजलि!”

‘सहाराश्री’ के नाम से जाने जाते थे सुब्रत रॉय

सुब्रत रॉय ‘सहाराश्री’ के नाम से जाने जाते थे, उन्होंने साल 1978 में सहारा इंडिया परिवार की स्थापना की थी। सहारा की स्थापना करने के बाद सुब्रत रॉय ने काफी तेजी से तरक्की की। उनका जन्म 10 जून 1948 को बिहार में हुआ था। वे एक समय में भारत के प्रमुख कारोबारियों में से एक थे। रॉय मीडिया से लेकर रियल स्टेट आदि के कारोबार में शामिल थे।

बिहार से था नाता

सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय बिहार के अररिया जिले के रहने वाले थे, उनकी शुरुआती पढ़ाई लिखाई कोलकाता में हुई थी, इसके बाद वह गोरखपुर चले गए थे. एक रिपोर्ट के मुताबिक 1978 में सुब्रत रॉय अपने दोस्त के साथ स्कूटर पर बिस्किट और नमकीन बेचते थे, एक कमरे में दो कुर्सी और एक स्कूटर के साथ उन्होंने अपने इस कारोबार को दो लाख करोड़ रुपये तक पहुंचाया. उसी दोस्त के साथ चिटफंड कंपनी खोली, मध्यम वर्ग इस कंपनी से इतना प्रभावित था कि उस समय 100 रुपये कमाने वाला भी 10 से 20 रुपये इस कंपनी में जमा करता था.

कई बिजनेस में आजमाया हाथ

एक समय में सहारा समूह आईपीएल की पुणे फ्रेंचाइजी का मालिक था. इसके साथ ही फॉर्मूला वन रेसिंग टीम फोर्स इंडिया में भी सहारा ग्रुप की हिस्सेदारी थी. सहारा ग्रुप 90 हजार करोड़ के नियोजित निवेश के साथ ही पूरे देश में 60 से अधिक टाउपशिप को विकसित करने की योजना बना रहा था. सहारा समूह करीब 11 लाख लोगों को रोजगार देता है. सहारा ग्रुप की बात करें तो रियर एस्टेट, बीमा, मीडिया, मनोरंजन, खेल और स्वास्थ्य सेवाओं में उनका दबदाबा रहा है

जमानत पर बाहर थे सुब्रत रॉय

सुब्रत रॉय के खिलाफ पटना हाईकोर्ट में लोगों का पैसा कई साल से भुगतान नहीं करने का एक मुकदमा चल रहा था. इस मामले में वह जमानत पर थे, पिछले साल ही सुप्रीम कोर्ट ने पटना हाईकोर्ट के गिरफ्तारी आदेश पर तत्काल सुनवाई करते हुए इस आदेश पर रोक लगा दी थी, इसके अलावा आगे उनके खिलाफ किसी भी तरह की कार्रवाई को लेकर यथा स्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था.

Show More

Related Articles

Back to top button
Join Our Whatsapp Group