बालटाल-पवित्र गुफा मार्ग पर बने दो पुल जलस्तर बढ़ने से टूटे, श्रद्धालुओं को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सुरक्षित रास्ता पार करवाया

श्रीनगर
श्री अमरनाथ की पवित्र गुफा की तरफ जा रहे सैंकड़ों श्रद्धालुओं के लिए उस समय जान का संकट पैदा हो गया,जब मार्ग में एक नाले में बाढ़ आ गई। मार्ग पर तैनात जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों ने उसी समय स्थिति को संभाला और एक-एक कर सभी श्रद्धालुओं को नाला पार कराया। ऐसे में श्रद्धालु भी जम्मू-कश्मीर पुलिस के कायल हो गए और फिर जोर से बम-बम भोले के जयघोष लगाना शुरू हो गए। यहां मिली जानकारी के अनुसार, बालटाल से पवित्र गुफा के रास्ते मेंं बरारीमर्ग और वाई जंक्शन पर दो नाले हैं। इन नालों में पानी का बहाव बहुत तेज होता है। इन्हें पार करने के लिए लकड़ी के छोटे पुल बनाए गए हैं। गत शुक्रवार शाम को ऊपरी इलाकों में हुई बारिश के बाद इन दोनों नालों का जलस्तर बढ़ गया। इससे पुल भी क्षतिग्रस्त हो गए। अंधेरा होने के कारण श्रद्धालुओं के लिए नालों को पार करना मुश्किल हो गया था और उनके लिए जान का संकट पैदा हो गया था। ऐसे में जम्मू कश्मीर पुलिस के बचाव कर्मियों ने तुरंत मौके पर पहुंचकर स्थिति को संभाला। उन्होंने एक-एक कर सभी श्रद्धालुओं को यह पुल पार कराए। यह क्रम देर रात गए तक जारी रहा।

अमरनाथ श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को मद्देनजर रखते हुए भारतीय सेना ने बालटाल में 600 टेंट स्थापित किए हैं। इसमें 2500 श्रद्धालु ठहर सकेंगे। सेना के जैक राइफल ने मात्र 20 दिन में इस टेंट सिटी का निर्माण किया है। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए 106 शौचालय भी बनाए गए हैं। इसमें लंगर की भी व्यवस्था की गई है। सेना ने इस टेंट सिटी को तैयार कर जिला प्रशासन को सौंप दिया है। इन टेंट को निजी ठेकेदारों को दिया गया है। इस टेंट में रहने वाले प्रत्येक श्रद्धालु से 200 रुपये प्रतिदिन का किराया ठेकेदार ही वसूल सकेगा।

Related Articles

Back to top button