चीन बॉर्डर के पास से दो युवक लापता, 52 दिन पहले आखिरी बार दिखे

अरुणाचल प्रदेश
Arunachal Pradesh Youth Missing का मामला चीन सीमा से सटे चागलागम क्षेत्र से सामने आया है। China border के पास Chaglagam Anjaw इलाके से दो युवकों के लापता होने की सूचना से हड़कंप मच गया है। घर से निकलने के 50 दिन बाद पुलिस में कंप्लेन की गई। 15 अक्टूबर के दिन इन युवकों के गायब हुए 57 दिन हो चुके हैं।
 
50 दिन बाद गुमशुदगी की कंप्लेन !
दी हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक बतिलुम टिकरो और बेइंग्सो मन्यु (Bateilum Tikro Bayingso Manyu missing) 19 अगस्त को अंजाव जिले के चागलगाम के लिए निकले थे। करीब 50 दिनों तक लापता रहने पर उनके परिवारों के सदस्यों ने 9 अक्टूबर को स्थानीय पुलिस स्टेशन में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई।
 
औषधीय पौधों के लिए जंगल गए थे
खबर के मुताबिक अरुणाचल प्रदेश के दो युवक चीन के साथ लगी अरुणाचल प्रदेश की सीमा के पास एक स्थान पर औषधीय पौधों की तलाश में निकले थे। पिछले 57 दिन से दोनों घर नहीं लौटे हैं। दोनों युवक चागलगाम जिले के गोइलियांग कस्बे के रहने वाले हैं। रिपोर्ट के मुताबिक लापता युवक के परिजनों ने कहा कि दोनों की तलाशी में नाकाम रहने के बाद उन्होंने पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई। खोज उस दिशा में केंद्रित थी जहां स्थानीय लोगों ने आखिरी बार दोनों को विगत 24 अगस्त को देखा था।

परिजनों ने सेना से भी गुहार लगाई
लापता युवक बतिलुम टिकरो के परिवार के एक सदस्य ने कहा, "हमने पुलिस की मदद मांगी क्योंकि हमें संदेह है कि वे अनजाने में चीनी क्षेत्र में चले गए होंगे।" परिवारों ने केंद्र, राज्य सरकार और सेना से दोनों का पता लगाने में मदद करने की भी अपील की।

पुलिस ने क्या कहा, राज्य सरकार को कब मिलेगी रिपोर्ट
Anjaw के पुलिस अधीक्षक राईके कामसी ने बताया कि पुलिस को एक रिपोर्ट मिली है, जिसमें कहा गया है कि लड़के जड़ी-बूटियों को इकट्ठा करने के लिए सीमावर्ती इलाके में जाने के बाद से लापता हैं। नौ अक्टूबर को शिकायत दर्ज कराई गई। उन्होंने कहा, "हम गवाहों, परिवार के सदस्यों और सीमा के पास रहने वाले ग्रामीणों की जांच के बाद राज्य सरकार को एक रिपोर्ट सौंपेंगे। स्थानीय लोगों के लिए औषधीय जड़ी-बूटियों की तलाश में जंगलों की तरफ जाना आम बात है।"

दुर्गम इलाका, पैदल यात्रा में 12 दिन !
एसपी कामसी ने कहा कि लड़के सीमा के पास भारतीय क्षेत्र में कहीं भी शरण ले सकते हैं। उन्होंने कहा, "गोइलियांग से साइट तक पैदल पहुंचने में 12 दिन तक का समय लगता है।"

जनवरी में भी चीन जा पहुंचा था युवक
गौरतलब है कि विगत जनवरी में भी अरुणाचल के ही ऊपरी इलाके में सियांग जिले का एक युवक, मिराम तारोन चीनी सीमा में घुस गया था। सीमा के पास जंगल में औषधीय पौधों की तलाश में घूमते समय मिराम अनजाने में चीनी क्षेत्र में चले गए थे। चीनी सैनिकों ने मिराम को पकड़ लिया था। कुछ दिनों बाद भारत ने मिराम का मामला चीनी पक्ष के समक्ष उच्च स्तर पर उठाया, जिसके मिराम को बाद मुक्त कर दिया गया था।

Related Articles

Back to top button