कांग्रेस का नुकसान कराके ही मानेंगे उदित राज! द्रौपदी मुर्मू पर फिर बिगड़े बोल- पद पाकर गूंगे-बहरे हुए

नई दिल्ली
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर आपत्तिजनक बयान देकर घिरे कांग्रेस नेता उदित राज अब भी मानने को तैयार नहीं हैं। भाजपा की ओर से तीखा हमला किए जाने और अपनी ही पार्टी के पल्ला झाड़ने के बाद उदित राज ने एक सफाई वाला ट्वीट किया था, लेकिन फिर से वह पुराने तेवर में ही लौट आए हैं। उदित राज ने पहले द्रौपदी मुर्मू पर चमचागिरी करने का आरोप लगाया था, जिस पर घिर गए थे। अब उन्होंने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर पद पाकर गूंगा और बहरा बन जाने जैसी आपत्तिजनक टिप्पणी की है। वहीं यह भी कहा है कि द्रौपदी मुर्मू से सवाल पूछना हमारा अधिकार है क्योंकि हम उसी समाज से आते हैं, जिसकी वह प्रतिनिधि हैं।

राष्ट्रपति के खिलाफ उदित राज की टिप्पणी पर घमासान, NCW भेज रहा नोटिस
उदित राज ने लिखा, 'द्रौपदी मुर्मू जी से कोई दुबे, तिवारी, अग्रवाल, गोयल, राजपूत मेरे जैसा सवाल करता तो पद की गरिमा गिरती। हम दलित – आदिवासी आलोचना करेगें और इनके लिए लड़ेंगे भी। हमारे प्रतिनिधि बनकर जाते हैं फिर गूंगे-बहरे बन जाते हैं। भाजपा ने मेरा सम्मान किया,जब एससी/एसटी की बात की तो बुरा हो गया।' एक और ट्वीट में उदित राज ने कहा कि द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति के तौर पर पूरा सम्मान है। वह दलित-आदिवासी की प्रतिनिधि भी हैं और इन्हें आधिकार है कि वे अपने हिस्से का सवाल करें। इसे राष्ट्रपति पद से न जोड़ा जाए।'
 
हालांकि इसके साथ ही उदित राज ने अपने बयान को कांग्रेस से अलग बताने की भी कोशिश की है। उदित राज ने कहा कि मेरा बयान द्रोपदी मुर्मू जी के लिए निजी है, कांग्रेस पार्टी का नहीं है। भाजपा के नेतृत्व वाली मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए उदित राज ने कहा कि मुर्मू जी को उम्मीदवार बनाया व वोट मांगा आदिवासी के नाम से। राष्ट्रपति बनने से क्या आदिवासी नहीं रहीं? देश की राष्ट्रपति हैं तो आदिवासी की प्रतिनिधि भी। रोना आता है जब एससी/एसटी के नाम से पद पर जाते हैं फिर चुप हो जाते हैं। इस तरह उदित राज ने संकेत दे दिए हैं कि वह बैकफुट पर नहीं जाने वाले। लेकिन उनके रवैये ने कांग्रेस की मुश्किलों में जरूर इजाफा कर दिया है।

मुद्दे ने तूल पकड़ा तो कांग्रेस को होगा बड़ा नुकसान
भाजपा की ओर से लगातार उदित राज से माफी की मांग की जा रही है। इसके अलावा कांग्रेस पर भी हमला बोला है। यदि यह मुद्दा तूल पकड़ता है तो कांग्रेस को ऐसे वक्त में नुकसान पहुंचाएगा, जब राहुल गांधी की लीडरशिप में पार्टी कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ो यात्रा निकाल रही है। उदित राज की इस टिप्पणी के जरिए भाजपा उसे दलित और आदिवासी विरोधी साबित करने का प्रयास कर सकती है। संबित पात्रा ने भाजपा की ओर से तीखा हमला किया है।

भाजपा पर उदित राज का हमला- डमी नेताओं के जरिए लूटे वोट
उदित राज ने पात्रा को भी जवाब देते हुए एक ट्वीट किया है। उदित राज ने लिखा, 'मैंने द्रौपदी मुर्मू से एससी-एसटी के नेता सवाल पूछा है, जो आप नहीं कर सकते। यह हमारे बीच का मामला है। डॉ. अंबेडकर हमेशा यह चिंता जताते थे कि एससी-एसटी वर्ग के लोग प्रतिनिधि बनकर गूंगे बहरे हो सकते हैं। यह साबित हो रहा है। भाजपा ने मेरा तब तक सम्मान किया था, जब तक मैंने एससी-एसटी के मुद्दे नहीं उठाए। आपने डमी नेताओं के नाम पर हमारे वोटों की लूट की है।'

 

Related Articles

Back to top button