भाजपा में मची भगदड़ पर लगेगी रोक? चुनाव के बाद पहली बार बंगाल जा रहे अमित शाह

नई दिल्ली।
 
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह गुरुवार से दो दिन के पश्चिम बंगाल दौरे पर जा रहे हैं। इस दौरान वह पार्टी के प्रदेश नेताओं और कार्यकर्ताओं में नया जोश भरने की कोशिश करेंगे। साथ ही संगठनात्मक कामकाज और राजनीतिक हालात की समीक्षा भी करेंगे। केंद्रीय गृहमंत्री के इस दौरे से भाजपा अपने राज्य संगठन में नई जान फूंकने की तैयारी में है, ताकि वर्ष 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए स्थिति मजबूत की जा सके।

अमित शाह सरकारी कार्यक्रमों के साथ सिलीगुड़ी और कोलकाता में पार्टी से जुड़े कार्यक्रमों में भी हिस्सा लेंगे। इस दौरान वह पार्टी के सभी सांसदों और विधायकों सहित प्रदेश इकाई के नेताओं से मिलेंगे। वह एक जनसभा में भी शिरकत करेंगे और भारत-बांग्लादेश सीमा से लगे अग्रिम इलाकों का दौरा करेंगे। इसके अलावा कोलकाता में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में भी शामिल होंगे। पार्टी ने कोलकाता में अमित शाह के बड़े स्वागत कार्यक्रम की तैयारी की है। ताकि, विरोधियों को अपनी राजनीतिक ताकत का अहसास कराने के साथ बीते दिनों चुनावी हार से निराश पार्टी कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा लाई जा सके।

अमित शाह का बंगाल दौरा ऐसे समय में हो रहा है, जब भाजपा राज्य में अपने संगठनात्मक तंत्र को मजबूत करने का प्रयास कर रही है। विधानसभा चुनाव में सत्ता तक न पहुंच पाने के बाद पार्टी के कई विधायक छोड़ गए हैं। ऐसे में भाजपा के लिए राज्य संगठन को मजबूत करने के साथ तृणमूल कांग्रेस के मुकाबले अपने कार्यकर्ताओं को मजबूती देना बेहद जरूरी हो गया है। राज्य में नए अध्यक्ष की नियुक्ति के बाद पुराने नेता भी मुखर हैं और विभिन्न मुद्दों पर अनुभवहीनता को लेकर बदलाव की मांग कर रहे हैं।

 

Related Articles

Back to top button