Wednesday, January 27th, 2021
Close X

3 मोर्चे पर जंग लड़ रही दिल्ली, महामारी की मार, गिरता तापमान, बढ़ता प्रदूषण

 
नई दिल्ली 

दिल्ली में कोरोना की जानलेवा रफ्तार जस की तस बनी हुई है. लगातार पांचवे दिन राजधानी में 24 घंटे के अंदर 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई. प्रदूषण और सर्दियों की वजह से कोरोना के फैलने का खतरा बना हुआ. नोएडा के बाद गाजियाबाद बॉर्डर पर भी दिल्ली से आने वालों की रैंडम टेस्टिंग की जा रही है. दिल्ली की सर्दियां इस बार कोरोना संकट के साथ आई हैं. दिल्ली में कोरोना का ग्राफ बढ़ रहा है. तापमान गिर रहा है और जहरीली हवा की वजह से मरीजों की हालत और गंभीर हो रही है. नवंबर में ठंड ने पिछले 17 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. कुल मिलाकर दिल्ली इस वक्त महामारी, बदलते मौसम और बढ़ते प्रदूषण के साथ 3 मोर्चे पर लड़ाई लड़ रही है. 

दिल्ली में कोरोना के आंकड़े

पिछले 24 घंटे में दिल्ली में सामने आए कोरोना के 6224 नए मामले 
पिछले 24 घंटे में 109 लोगों की मौत 
लगातार पांचवें दिन 100 से ज्यादा लोगों ने तोड़ा दम
दिल्ली में कोरोना के कुल केस - 5,40,541 
पिछले 24 घंटे में ठीक हुए मरीज - 4943 
इलाज के बाद अब तक कुल ठीक हो चुके मरीजों की संख्या- 4,93,419 
एक्टिव केस - 38,501 
प्रदूषण को लेकर जारी अलर्ट भी खतरे की आशंका बढ़ाने वाला है. 25 नवंबर को दिल्ली में प्रदूषण गंभीर स्तर पर पहुंच सकता है. ये हालात कोरोना की चपेट में आए मरीजों के लिए घातक साबित हो रहे हैं. दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 109 लोगों की मौत हुई है. एक दिन 6224 नए मामले सामने आए. दिल्ली में अब तक कोरोना के कुल मामले  5 लाख 40 हजार को पार कर चुके हैं. दिल्ली में इस वक्त 38 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हैं. 

हफ्ते भर का दिल्ली के मौसम का अनुमान
दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए नोएडा और गुरुग्राम के बाद अब गाजियाबाद ने भी दिल्ली से आने वालों का रैंडम टेस्ट किए जाने का फैसला किया है. गाजियाबाद बॉर्डर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बूथ लगाया है, जहां शाम को दिल्ली से लौट रहे लोगों की टेस्टिंग हो रही है. मास्क को लेकर भी गाजियाबाद में सख्ती बढ़ा दी गई है. 

इस समय मौसम तेजी से बदल रहा है और लोग संक्रमण से बेखौफ होकर लापरवाही के साथ घर से बाहर निकल रहे हैं. वायु प्रदूषण फेफड़ों पर असर करता है. इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है. ऐसे में कोरोना का हमला घातक हो सकता है. जानकारों के मुताबिक सर्द मौसम की नमी में वायरस करीब 72 घंटे कर सक्रिय रह सकते हैं और जिस तरह से उत्तर भारत में सर्दी बढ़ रही है, उसके साथ साथ कोरोना के और फैलने का  खतरा भी बढ़ गया है.

Source : Agency

आपकी राय

13 + 4 =

पाठको की राय