Tuesday, September 21st, 2021
Close X

बिहार पंचायत चुनाव: 15 अगस्त के बाद कभी भी हो सकता है इलेक्शन का ऐलान

बिहार
बिहार पंचायत चुनाव के कार्यक्रमों की घोषणा 15 अगस्त के बाद कभी भी हो सकती है. राज्य निर्वाचन आयुक्त डॉ. दीपक प्रसाद ने शनिवार को सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि इसके पहले वे पंचायत चुनाव संबंधी सभी तैयारियां पूरी कर लें.

निर्वाचन आयुक्त ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि कुछ जिलों में इवीएम का नंबर एक ही मैच कर रहा है. इसको तीन दिनों के अंदर ठीक कर लें. साथ ही जिन जिलों में आरक्षण को लेकर अभी तक अंतिम रूप से त्रुटि दूर नहीं की गयी है उसको एक सप्ताह के अंदर दूर कर लें.

आयोग ने जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर पंचायत चुनाव की तैयारियों की समीक्षा की. जिलों को निर्देश दिया गया कि पिछली बैठक में जो भी प्रतिवेदन तैयार करना है उसको समय पर अपलोड कर लें. साथ ही जिन जिलों में अलग-अलग राज्यों से इवीएम मंगायी गयी हैं उनका अलग-अलग भंडारण भी सुनिश्चित करें. भंडारण के पहले इवीएम पर जिस राज्य से मंगाया गया है उस राज्य का स्टिकर चिपका दें , जिससे वापसी में किसी तरह की असुविधा नहीं हो.

अगर किसी राज्य के प्राप्त कोई इवीएम में गड़बड़ी पायी जाती है, तो डिफेक्टिव का स्टिकर भी उस इवीएम पर चिपका दिया जाये. जिलों को निर्देश दिया गया कि राज्य में नवगठित, उत्क्रमित व सीमा विस्तारित नगरपालिका के फलस्वरूप परिवर्तन हुआ है, तो उसको पंचायत निर्वाचन नियमावली के अनुसार सुसंगत तरीके से संशोधित कर लें. साथ ही उसी के अनुसार मतदाता सूची और बूथों को भी संशोधित कर लें.

जिलाधिकारी अपने जिले में आदर्श मतदान केंद्र को चिह्नित कर लें. जिलाधिकारी इस बात पर विचार कर सुझाव दें कि क्या जिला स्तर पर काउंटिंग करायी जा सकती है. अगर यह संभव है तो विचार दें. जिलों से यह भी सुझाव मांगा गया कि वह पदवार वज्रगृह की तैयारी पर विचार करें. वीसी में आयुक्त के अलावा सचिव मुकेश कुमार सिन्हा सहित आयोग के अन्य पदाधिकारी भी शामिल थे.

Source : Agency

आपकी राय

15 + 13 =

पाठको की राय