Friday, October 22nd, 2021
Close X

कैसे पाएं मिलिया से छुटकारा

मिलिया एक प्रकार की त्वचा की समस्या है जो चेहरे पर होती है, त्वचा की मृत कोशिकाएं ही मिलिया का रूप ले लेती हैं, यह समस्या बच्चों और युवाओं में अधिक दिखती है।

क्या है मिलिया
मिलिया यानी सफेद फुंसी एक प्रकार की त्वचा की समस्या है जो चेहरे को प्रभावित करती है। यह फुंसी बहुत ही छोटी होती है जो किसी भी उम्र में हो सकती है। जब त्वचा की मृत कोशिकाएं त्वचा के ऊपर आती हैं तब यही मिलिया का रूप ले लेती हैं। मिलिया की समस्या सबसे अधिक बच्चों में देखी जाती है उसके बाद यह समस्या किशोरों में दिखती है। यह समस्या बिना उपचार के भी समाप्त हो जाती है। लेकिन अगर थोड़ी सावधानी बरती जाए तो इसे होने से बचाया जा सकता है।

अच्छे उत्पाद का प्रयोग करें
त्वचा के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले मॉइश्चराइजर क्रीम का प्रयोग करें। मॉइश्चराइजर क्रीम आपकी त्वचा की ऊपरी परत से मृत कोशिकाओं को आसानी से निकाल देती है, जिसके कारण ये फुंसियां चेहरे पर नहीं दिखाई देती हैं।

रेटीनॉल का प्रयोग
यह विटामिन ए का पूरक माना जाता है, इसका प्रयोग एक्ने की समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है। यह त्वचा की मृत कोशिकाओं को यानी ऊपरी परत को निकालकर त्वचा को साफ और मुलायम रखता है। अच्छे परिणाम के लिए रेटीनॉल युक्त क्रीम का प्रयोग सीधे तौर पर प्रभावित त्वचा पर करें। रेटीनॉल को आंखों के आसपास न लगाएं।

सूर्य की किरणों से बचाव
सूर्य की हानिकारक किणों से मिलिया और भी बदतर हो सकती है। इसलिए अगर आप मिलिया से ग्रसित हैं तो सूर्य की हानिकारक त्वचा से चेहरे का बचाव करें। धूप तेज हो तो बाहर जाने से बचें और अगर जाना जरूरी हो तो चेहरे को ढक कर जाएं।

अधिक मेकअप न करें
अगर आप मिलिया से ग्रस्त हैं तो इसे छुपाने के लिए चेहरे पर अधिक कॉस्मेटिक का प्रयोग न करें। दरअसल कॉस्मेटिक और मेकअप के अन्य उत्पाद आपके रोम छिद्रों को बंद कर सकते हैं, इससे त्वचा अधिक प्रभावित होगी और मिलिया आपकी त्वचा पर और फैल सकती है। इसलिए मेकअप कम करें।

इसे खरोंचे नहीं
मिलिया को मुहांसों की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता है। यह मृत कोशिकाओं के कारण होता है जो कि कुछ सप्ताह में अपने आप समाप्त हो जाता है। इसके कारण दर्द और जलन की समस्या नहीं होती है। इसलिए इसे खरोंच कर निकालने की कोशिश न करें। खरोंचने से यह बदतर हो सकता है और इसके कारण त्वचा पर जलन और खुजली की समस्या भी हो सकती है।

नियासीन और बायोटिन के सप्लीमेंट से समस्याएं
हालांकि अभी इस पर शोध हो रहा है कि नियासीन (विटामिन बी3) और बायोटिन (विटामिन एच) की कमी के कारण ये समस्याएं होती हैं। हालांकि इन शोधों में यह बात सामने आयी है कि उपचार के दौरान विटामिन के इन सप्लीमेंट का सेवन करने से मिलिया की समस्या दूर होती है। खानपान के जरिये इनकी कमी को दूर किया जा सकता है। लेकिन अगर इनकी कमी त्वरित पूरा करना चाहते हैं तो नियासीन और बायोटीन के पूरक का सेवन करें।

त्वचा रोग विशेषज्ञ
अगर आपको लगता है कि मिलिया आपके चेहरे के लिए समस्या बन गया है तो इसके लिए आप किसी कुशल त्वचा रोग विशेषज्ञ से संपर्क कर सकते हैं। अगर कुछ सप्ताह में मिलिया नहीं समाप्त हो रहा है तो चिकित्सक सूई के जरिए इसे त्वचा से निकाल सकते हैं। इसके लिए क्रायोथेरेपी भी किया जाता है। क्रायोथेरेपी संवेदनशील क्षेत्रों जैसे - आंखों और भौहों के पास से मिलिया को निकालने के लिए किया जाता है।

Source : Agency

आपकी राय

13 + 1 =

पाठको की राय