रायपुर, दुर्ग और भिलाई में आयकर विभाग का छापा, 20 से ज्यादा ठिकानों पर दबिश, मचा हड़कंप

आयकर विभाग ने शुक्रवार सुबह छत्तीसगढ़ में एक बार फिर ताबड़तोड़ कार्रवाई की है। शुक्रवार सुबह विभाग ने रायपुर, दुर्ग और भिलाई में 20 से अधिक ठिकानों पर छापा मारा है। छापा ट्रांसपोर्टर, बिल्डर और बड़े सप्लायर्स के ठिकानों पर की गई है। सुबह पांच बजे शुरू हुई कार्रवाई अब भी जारी है।

रायपुर
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर दुर्ग समेत राज्य के कई जिलों में एक बार फिर से आयकर विभाग ने कार्रवाई की है। आयकर विभाग ने शुक्रवार सुबह एक साथ कई बिल्डर, ट्रांसपोर्टर और बड़े सप्लायर के यहां छापा मारा है। 20 से अधिक ठिकानों पर अहले सुबह शुरू हुई कार्रवाई अभी भी जारी है। इस कार्रवाई में 50 से अधिक अधिकारी-कर्मचारी शामिल हैं।

जानकारी के अनुसार शुक्रवार सुबह पांच बजे आयकर विभाग की टीम राजधानी रायपुर और दुर्ग सहित छत्तीसगढ़ के कई जिलों में छापेमारी की कार्रवाई करने पहुंची है। बताया जा रहा है कि आईटी की इस कार्रवाई में मुख्य रूप से ट्रांसपोर्टर, बिल्डर और बड़े सप्लायर्स को निशाना बनाया गया है। रायपुर में आर.के.रोड़वेज और स्वास्तिक ग्रुप पर छापा मारा गया है। दुर्ग और भिलाई में सप्लायर और फाइनेंस कारोबारी कमलेश वैध के ठिकानों पर आयकर की टीमों ने दबिश दी है।

आयकर विभाग इनके ठिकानों से मिले दस्तावेजों को खंगाल रहा है। उनके व्यावसायिक लेनदेन की भी जानकारियां जुटाई जा रही हैं। विभाग की इस कार्रवाई में 50 से अधिक अधिकारी-कर्मचारी और करीब 70 सुरक्षाकर्मी शामिल हैं। अचानक हुई ताबड़तोड़ कार्रवाई से पूरे राज्य में हलचल है।

दस्तावेजों की जानकारी खंगाल रही टीम
दुर्ग भिलाई में सप्लायर, फाइनेंस कारोबारी कमलेश वैध के ठिकानों पर आयकर की टीमों ने दी दबिश दी है। लगातार दस्तावेजों की जानकारी ली जा रही है। इस कार्रवाई  में 50 से अधिक अधिकारी कर्मचारी 70 सुरक्षाकर्मी शामिल हैं। रायपुर और भिलाई में कई बड़े कारोबारियों के यहां टीम ने छापेमारी की है। टीम के 200 से 300 अधिकारी गुरुवार को ही छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर पहुंच चुके थे।

कई ट्रांसपोर्टरों और बिल्डर्स पर छापा
भिलाई में आयकर विभाग की टीम ने फाइनेंस कारोबारी कमलेश वैध के ठिकाने पर छापेमारी की है। दुर्ग के महावीर नगर में आयकर के अधिकारियों ने दबिश दी है। कर चोरी के सूचना पर आयकर विभाग की टीम यहां पहुंची है। कई ट्रांसपोर्टरों और बिल्डर्स सहित फाइनेंस से जुड़े लोगों पर आयकर ने शिकंजा कसा है।

 

Show More
Back to top button