उज्जैन में एक ही रात में ठंड से 3 भिखारियों की मौत, न्यूनतम तापमान 8 डिग्री

महाकाल थाना पुलिस ने थाना क्षेत्र के राममंदिर की सिढी रामघाट मार्ग, महाराजवाड़ा स्कूल के सामने पार्किंग, दशोरा धर्मशाला के सामने गनगौर दरवाजा से भिखारी जैसे मरणासन्न स्थिति में 3 पुरुषों को जिला अस्पताल लाया गया था।

उज्जैन
महाकाल थाना क्षेत्र में महाराजवाड़ा स्कूल, राम मंदिर की सीढ़ियों तथा गणगौर दरवाजे पर लावारिस हालत में रहने वाले तीन वृद्धों की मंगलवार रात को मौत हो गई। पीएम करने वाले डाक्टर का कहा है कि तीनों मृतकों को हार्ट अटैक आया था। ठंड के कारण ऐसा होने की आशंका है। महाकाल पुलिस ने तीनों मामलों में मर्ग कायम किया है।

महाकाल पुलिस ने बताया कि बुधवार सुबह महाराजवाड़ा पार्किंग के समीप 75 वर्षीय लक्ष्मणदास नामक व्यक्ति मृत अवस्था में मिला था। मृतक लंबे समय से महाकाल मंदिर के आसपास के क्षेत्र में भिक्षावृत्ति करता था। इसी प्रकार रामघाट के समीप स्थित राम मंदिर की सीढ़ियों पर रहने वाला 70 वर्षीय वृद्ध तथा दानीगेट पर गणगौर दरवाजे के पास स्थित दशोरा धर्मशाला के बाहर भी 70 वर्षीय लावारिस व्यक्ति बुधवार को मृत अवस्था में मिला है। तीनों शवों का जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाया गया है। ठंड लगने से मौत की आशंका जताई जा रही है।

ह्रदय की नसें ब्लाक थीं

शवों का पीएम करने वाले चिकित्सक डा. अजय दंडोतिया का कहना है कि तीनों मृतकों के दिल की नसें ब्लाक थी। आशंका है कि तेज ठंड के कारण तीनों को हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई। बता दें की शहर में लगातार रात का तापमान 7 से 8 डिग्री पर बना हुआ है। मंगलवार रात को भी तापमान 8 डिग्री था।

बीमार युवक की भी मौत

इसी प्रकार जिला अस्पताल में भर्ती शैलूसिंह उम्र 30 वर्ष निवासी तारखेड़ी झाबुआ की भी मौत हो गई। मृतक को दो दिन पूर्व बीमारी की हालत में बड़नगर रोड से अस्पताल लाया गया था। डा. दंडोतिया के अनुसार मृतक के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। वह लंबे समय से बीमार था।

यहां तीनों को उपस्थित डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। महाकाल सीएसपी ओपी मिश्रा के अनुसार प्रारंभिक रूप से सामने आया है कि तीनों की मौत ठंड के कारण हो सकती है। ये सभी भिखारी जैसे ही इन क्षेत्रों में रह रहे थे। पुलिस ने तीन मर्ग कायम किए हैं। इससे पूर्व पंचायती अखाड़ा के पास से एक युवक को 9 जनवरी को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया था।

उसका इलाज अस्पताल में चल रहा था। उसकी भी बुधवार को जिला अस्पताल में मौत हो गई। जिसकी पहचान झाबुआ निवासी शेरसिंह पिता विजयसिंह के रूप में सामने आई थी। पुलिस ने सभी के शवों के पोस्टमार्टम करवाए थे। शेरसिंह का शव उसके परिजन ले गए हैं।

पुलिस ने अज्ञात तीनों की पहचान के लिए प्रयास शरु करते हुए इनके शव को जमीन में नगरनिगम के साथ सुरक्षित करवाया है। ठंड में नगर निगम के आश्रय स्थलों को लेकर अपर आयुक्त आर एस मंडलोई का कहना था कि हमारी जानकारी में नहीं है कि चार भिखारियों की मौत हो गई है।हमारे आश्रय स्थलों में पर्याप्त व्यवस्थाएं हैं अलाव जलाए जा रहे हैं।

खाने की व्यवस्था है। लोग आश्रय स्थल में आ रहे हैं। हमारे अधिकारी रात में क्षेत्रों में जाकर देख भी रहे हैं। जिला अस्पताल में बुधवार को डा.अजय दंडोतिया ने चारों का पोस्टमार्टम किया था। डा.दंडोतिया के अनुसार 9 जनवरी से भर्ती युवक को कई डिसिस सामने आई थी।

आज लाए गए तीन शवों में प्रारंभिक स्थिति में रक्त के थक्के सी स्थिति सामने आई है।हार्ट अटैक होना सामने आया है। ठंड के कारण हार्ट अटैक हुआ है।ठंड में खून गाढा होने की स्थिति में हार्ट अटैक हो सकता है।

Show More
Back to top button
Join Our Whatsapp Group