अडानी कारोबार का करेंगे बंटवारा,5 कंपनियों का आएगा IPO

समूह ने पिछले पांच-सात वर्षों में अपने बिजली, कोयला, ट्रांसमिशन और ग्रीन एनर्जी कारोबार को अलग कर दिया है। फोर्ब्स के मुताबिक अडानी अपने साम्राज्य को पोर्ट्स से एनर्जी तक फैला रहे हैं।

नई दिल्ली
अडानी ग्रुप (Adani Group) के चैयरमैन और एशिया के सबसे अमीर शख्स गौतम अडानी (Gautam Adani) मेगा प्लान पर काम कर रहे हैं. गौतम अडानी 2026 से 2028 के बीच पांच कंपनियों के आईपीओ (IPO) लाने की तैयारी में हैं. आईपीओ लाकर गौतम अडानी अपने कर्ज के रेश्यो को कम करना चाहते हैं और कंपनियों में निवेशकों के बेस को बढ़ाना चाहते हैं. अडानी समूह के मुख्य वित्तीय अधिकारी जुगेशिंदर सिंह ने एक इंटरव्यू में कहा कि अगले तीन से पांच वर्षों में कम से कम पांच यूनिट को मार्केट में ले जाने की तैयारी है.

उन्होंने कहा कि अडानी न्यू इंडस्ट्रीज लिमिटेड, अडानी एयरपोर्ट होल्डिंग्स लिमिटेड, अडानी रोड ट्रांसपोर्ट लिमिटेड, अडानी कोनेक्स प्राइवेट लिमिटेड और अडानी ग्रुप की मेटल और माइनिंग कंपनी इंडिपेंडेंट कंपनी बन जाएंगी. हाल ही में अडानी एंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) ने भारत के सबसे बड़े फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर (FPO) का ऐलान किया है.

सेल्फ ऑपरेशन की जरूरत
आने वाले पांच कंपनियों के आईपीओ को लेकर सिंह ने आगे कहा कि एयरपोर्ट के ऑपरेशन जैसे कारोबार लगभग 300 मिलियन ग्राहकों को सेवा प्रदान करने वाला कंज्यूमर प्लेटफॉर्म है. उन्हें आगे डेवलपमेंट, सेल्फ ऑपरेशन के लिए अपनी पूंजी की जरूरतों को मैनेज करने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि औपचारिक डिमर्जर लागू करने से पहले व्यवसायों को यह दिखाने की आवश्यकता होगी कि वे स्वतंत्र तरीके से ऑपरेशन और पूंजी को संभालने में सक्षम हैं या नहीं.

मजबूत हो रहा ग्रीन एनर्जी का कारोबार

सिंह ने कहा कि पांचों यूनिट के लिए पहले से ही पैमाना तय है. एयरपोर्ट कारोबार पहले से ही स्वतंत्र है, जबकि अडानी न्यू इंडस्ट्रीज ग्रीन एनर्जी का कारोबार मजबूत हो रहा है. अडानी रोड ट्रांसपोर्ट लिमिटेड देश को नए बिल्ड-ऑपरेट-ट्रांसफर मॉडल दिखा रहा है. डेटा सेंटर का कारोबार और बढ़ेगा. मेटल और माइनिंग हमारे एल्यूमीनियम, तांबे और खनन सेवाओं को कवर करेंगे.

20,000 करोड़ रुपये का एफपीओ

अडानी ग्रुप अपने कारोबार का विस्तार पोर्ट से लेकर पावर तक कर रहा है. फ्लैगशिप कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड का 20,000 करोड़ रुपये एफपीओ 27 जनवरी को सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा. इश्यू का फ्लोर प्राइस 3,112 रुपये प्रति शेयर है, जो इसे कैपिटल मार्केट में अब तक के महंगे शेयरों में से एक बनाता है. अडानी एंटरप्राइजेज इस महीने जो FPO लेकर आ रही है, उससे प्राप्त पैसे का वो कई सेक्टर्स में इस्तेमाल करने वाली है.

अडानी एंटरप्राइजेज के शेयर

2022 में अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड का स्टॉक लगभग 130 फीसदी चढ़ा, लेकिन इस साल अब तक लगभग 7 फीसदी गिरा है. अडानी समूह की अन्य कंपनियों के स्टॉक भी पिछले साल 100 फीसदी से अधिक बढ़े थे. इससे कुछ निवेशकों को कंपनियों के ओवरवैल्यूड होने की चिंता हुई थी. हालांकि, सिंह ने कहा कि कुछ पारंपरिक वैल्यूएशन मेट्रिक्स इन व्यवसायों के लिए प्रासंगिक नहीं हैं. पिछले साल अडानी समूह के चेयरमैन गौतम अडानी ने कहा था कि उनका ग्रुप एनर्जी ट्रांजिशन स्पेस में 70 अरब डॉलर से ज्यादा का निवेश करेगा.

Show More
Back to top button
Join Our Whatsapp Group