AMU में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का नारा लगाने के लिए छात्र पर दबाव, यूपी पुलिस ने कहा- शिकायत में जिक्र ही नहीं

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में एक एमटेक छात्र ने कथित रूप से आरोप लगाया है कि उस पर पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने के लिए दबाव डाला गया। जब उसने नारा नहीं बोला तो उसके साथ मारपीट की गई। वहीं दूसरी ओर यूपी पुलिस ( UP Police) ने आरोप से इनकार कर दिया। पुलिस की ओर कहा गया कि यूनिवर्सिटी के छात्र की ओर दर्ज कराई गई शिकायत में पाकिस्तान (Pakistan) से जुड़े नारा लगाने के लिए दबाव जैसे किसी आरोप का जिक्र शिकायत में छात्र की ओर नहीं किया गया है।
 
गुरुवार को एमयू (AMU) में एम.टेक कर रहे एक हिंदू छात्र साकेत कुमार ने कथित रुप से एक बड़ा आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी के कुछ छात्रों के समूह ने उन पर पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने के लिए दबाव डाला और जब उन्होंने ऐसा नहीं किया तो उनके साथ मारपीट की गई। वहीं दूसरी ओर जब इस मामले को लेकर अलीगढ़ पुलिस ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में हिंदू छात्र के साथ इस तरह की कोई घटना नहीं हुई।
 
अलीगढ के सिविल लाइन स्टेशन हाउस ऑफिसर प्रवेश राणा ने कहा कि यूनिवर्सिटी में हिंदू छात्र के साथ ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। एएमयू परिसर के सुलेमान हॉल में दो छात्रों के बीच हाथापाई हुई। दोनों छात्र दोस्त थे। तीन अक्टूबर को दोनों के बीच हाथापाई हुई थी। 4 अक्टूबर को दोनों छात्रों ने एएमयू स्थित प्रॉक्टर कार्यालय में शिकायत की थी। जिस पर 6 अक्टूबर को मामला दर्ज किया गया। इन शिकायतों में नारों से जुड़े किसी मुद्दे का उल्लेख नहीं है।
 
जबकि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के M.Tech छात्र साकेत कुमार ने गुरुवार को आरोप लगाया कि उन्हें बेरहमी से पीटा गया और 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाए गए। साकेत कुमार े कहा कि रेहवार दानिश नाम के एक छात्र के साथ उसके समूह के अन्य छात्रों के उसे बेरहमी से पीटा और जबरन 'पाकिस्तान जिंदाबाद' और अन्य नारे लगाने के लिए कहा। स्थानीय मीडियाकर्मियों से बात करते हुए साकेत ने कहा, "रहवार दानिश और कुछ अन्य छात्रों ने मुझे सुलेमान हॉल में बेरहमी से पीटा, और मुझसे कहा कि अगर आपको छात्रावास या परिसर में रहना है तो आपको 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगाा होगा।"

 

Related Articles

Back to top button