अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की तैयारी में राजा भैया!

लखनऊ
यूपी के बाहुबली नेताओं में शुमार और पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया भी अब अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की तैयारी में हैं। अब तक निर्दलीय विधायक के तौर पर सियासी दलों को समर्थन देते आए राजा भैया अब राजनीतिक पारी की को और विस्तार देना चाहते हैं। यही वजह है कि उन्होंने अपने करीबियों के साथ बैठकों में राजनीतिक दल बनाने को लेकर चर्चा भी शुरू कर दी है। 
 

कहा जा रहा है कि वह 30 नवंबर तक राजनीतिक दल की घोषणा कर सकते हैं। वह 30 नवंबर को राजा अपने राजनीतिक जीवन के 25 साल पूरे कर रहे हैं। राजा भैया के राजनीतिक दल के गठन की चर्चा तब से शुरू हुई है, जब से प्रतापगढ़ और आसपास के जिलों में उनके सर्वे वाले पोस्टर लगाए गए। पोस्टर प्रतापगढ़ ग्राम प्रधानसंघ की ओर से लगाए गए थे। इसमें लिखा गया था कि क्या राजा भैया को अब नई सियासी पार्टी बना लेनी चाहिए? 

2019 लोकसभा चुनाव में उतरेगी पार्टी? 
सूत्रों का कहना है कि इस पर मिले सकारात्मक जवाब के बाद ही राजा भैया ने अपने नजदीकी लोगों से इसे लेकर मंथन शुरू किया। कहा जा रहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भी उनका यह सियासी दल उतरेगा। इससे पहले राजनीतिक पार्टी के गठन के औपचारिकताएं पूरी कर ली जाएंगी। 

राजा भैया कुंडा से 1993 से लगातार विधायक हैं। उन्होंने सियासत में पहला कदम 26 साल की उम्र में रखा। पहली बार में कुंडा सीट से चुन लिए गए। इसके बाद से यूपी की राजनीति में वह धीरे-धीरे अपना पैर पसारते चले गए। 

निर्दलीय होने के बावजूद रखते हैं दबदबा 
निर्दलीय होने के बावजूद उनका दबदबा सभी सियासी दलों में रहा है। यही वजह है कि राजा भैया कल्याण सिंह सरकार, मुलायम सरकार और अखिलेश सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। राजा भैया ने इस बार विधानसभा चुनाव में खुद तो कुंडा विधानसभा सीट से चुनाव जीता ही, साथ ही अपने करीबी विनोद सरोज को भी बाबागंज सीट से विधायक बनवा दिया। उनके करीबी भाई अक्षय प्रताप सांसद भी रह चुके हैं। क्षत्रिय विधायकों और मंत्रियों में भी उनका प्रभाव साफ देखा जा सकता है। 
 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Join Our Whatsapp Group