बाड़ेबंदी से नाराज बाड़ेबंदी विधायक कांग्रेस की चिंता का सबब

जयपुर
 राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha elections) के चलते उदयपुर के फाइव स्टार होटल में कांग्रेस और समर्थित दलों के विधायकों का कुनबा लगातार बढ़ता जा रहा है. 2 जून से उदयपुर में कांग्रेस और समर्थित दलों के विधायकों (Congress and Supported Parties MLAs) की बाड़ेबंदी शुरू हुई थी. पहले दिन करीब 65 विधायक ही उदयपुर (Udaipur) पहुंचे थे. अब यह संख्या करीब 108 तक जा पहुंची है. लेकिन कुछ विधायक अब भी पार्टी के लिए चिंता का सबब बने हुए हैं. ये विधायक अभी तक उदयपुर होटल में नहीं पहुंचे हैं. इनमें से कुछ विधायक नाराज भी बताए जा रहे हैं.

नाराज विधायकों की अगर बात करें तो कांग्रेस विधायक राजेन्द्र विधूड़ी और निर्दलीय विधायक बलजीत यादव का नाम खास चर्चा में है. कुछ और मंत्री-विधायक भी अभी तक उदयपुर होटल में नहीं पहुंचे है. इसके पीछे अलग-अलग वजह बताई जा रही है. राजेन्द्र विधूड़ी अपने क्षेत्र में अपनी मर्जी के मुताबिक अधिकारी नहीं लगाए जाने से नाराज बताए जा रहे हैं. पिछले दिनों विधूड़ी ने रीट परीक्षा को लेकर भी राज्य सरकार पर निशाना साधा था. बताया जा रहा है कि राजेन्द्र विधूड़ी अभी कांग्रेस नेताओं के संपर्क से बाहर हैं.
विज्ञापन

पायलट एक बार उदयपुर होटल में जाकर आ चुके हैं
निर्दलीय विधायक बलजीत यादव की मांग राजस्थान के युवाओं को नौकरी में 75 फीसदी आरक्षण की है. बलजीत यादव पिछले दिनों पूरे दिन दौड़ लगाकर भी अपनी नाराजगी जता चुके हैं. वहीं निर्दलीय विधायक संयम लोढा ने आज बाड़ेबंदी में पहुंचने की बात कही है. दीपेन्द्र सिंह शेखावत, मुरारीलाल मीणा, भंवरलाल शर्मा, परसराम मोरदिया और वेद सोलंकी की तबीयत नासाज बताई जा रही है. भरत सिंह कुंदनपुर बाड़ेबंदी में जाने से इनकार कर चुके हैं. हरीश चौधरी, विश्वेन्द्र सिंह, डॉ. महेश जोशी, रमेश मीणा भी अलग-अलग कारणों से उदयपुर नहीं पहुंचे हैं. सचिन पायलट एक बार उदयपुर होटल में जाकर आ चुके हैं.

Related Articles

Back to top button