बजट समाधान कारक नही बल्कि भ्रामकःकांग्रेस

भोपाल
मध्य प्रदेश सरकार का बजट दिशाहीन एवं भ्रामक है बजट में ना तो किसी वर्ग के लिए राहत दी गई है न ही यह बताया गया है कि सरकार लक्ष्य की पूर्ति कैसे करेगी।

कांग्रेस के मीडिया उपाध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता ने कहा कि बजट में पूंजीगत निवेश को मिले केन्द्रीय अनुदान को 1167करोड़ से बढ़ाकर सीधा एक लाख करोड़ बताया है।सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिये कि अन्य कितनी योजनाओं में केंद्र सरकार ने 100गुना अनुदान बढ़ाया है।

किसानों को दिये जा रहे 1लाख 72हजार करोड़ का आंकड़ा भी भ्रम पैदा करता है ।किसान अपना प्रीमियम देकर फसल बीमा कराता है और उसकी दावा राशि सरकार अपने खाते में जोड़कर भ्रम की स्थिति बना रही है।किसान के उपार्जन का पैसा भी इसमें जोड़ा गया है जो उसे अपनी फसल के प्रतिदान के रूप में मिलता है।

गुप्ता ने कहा कि मध्यप्रदेश में 30लाख 23हजार पंजीकृत बेरोजगार हैं।उनके नियोजन की कोई चर्चा नहीं है।1करोड़ 21लाख बेरोजगार श्रम पोर्टल पर रजिस्टर है और सरकार 13 हजार शिक्षकों की नियुक्ति का डिंडोरा पीट रही है।

जेंडर बजट में राज्य स्तरीय रोगी सहायता में शून्य,प्रसूति सहायता में शून्य बजट अनुमान दर्शाता है कि सरकार महिला चिकित्सा के प्रति उदासीन है। आदिवासी कन्यायों को शिक्षण प्रोत्साहन योजना में शून्य बजट अनुमान ने आदिवासी भांजियों के प्रति सरकार के  भेदभाव को पुख्ता कर दिया है।

Related Articles

Back to top button