CG Political News: रायपुर में स्टेयरिंग कमेटी की बैठक समाप्त, नहीं होगा CWC का चुनाव, खड़गे को सदस्य नॉमिनेट करने का अधिकार

CG Political News:कांग्रेस के 85वां अधिवेशन में शामिल होने पूर्व अध्‍यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी आज रायपुर पहुंचे। रायपुर एयरपोर्ट पर मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने उनका स्‍वागत किया।

CG Political News: उज्जवल प्रदेश, रायपुर. छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के 85वां अधिवेशन में शामिल होने पूर्व अध्‍यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी आज रायपुर पहुंचे। रायपुर एयरपोर्ट पर मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने उनका स्‍वागत किया। इसके बाद राहुल गांधी और सोनिया गांधी का काफिला कांग्रेस के अधिवेशन स्‍थल के लिए रवाना हो गया।

इससे पहले अखिल भारतीय कांग्रेस की स्टेरिंग कमेटी की बैठक खत्‍म हो गई है। राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की अध्‍यक्षता में स्टेरिंग कमेटी की बैठक दो घंटे तक चली। इस बैठक में सीडब्‍ल्‍यूसी चुनाव को लेकर चर्चा हुई। स्टेरिंग कमेटी की बैठक में यह तय हुआ कि सर्वसम्‍मति से सीडब्‍ल्‍यूसी चुनाव नहीं होगा। साथ ही कांग्रेस के 85वां अधिवेशन में अगले 3 दिन तक किन-किन मुद्दों पर चर्चा हो और किस तरह से रणनीति बने इसको लेकर दिशा-निर्देश तय करने को लेकर चर्चा हुई।

स्टीयरिंग कमेटी की बैठक में तय हुआ है कि CWC का चुनाव नहीं होगा और कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को सदस्य नॉमिनेट करने का अधिकार सर्वसम्मति से दिया गया है। अधिवेशन में कांग्रेस पार्टी के संविधान में संशोधन पर भी विचार किया जाएगा।

शुक्रवार सुबह से चल रही अनिश्चितता की खबरों के बाद दोपहर करीब 3 बजे सोनिया गांधी और राहुल गांधी विशेष विमान से रायपुर पहुंचे। एयरपोर्ट पर उनका स्वागत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डॉक्टर चरणदास महंत, AICC के महासचिव केसी वेणुगोपाल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम सहित अन्य नेताओं ने किया।

एयरपोर्ट के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भीड़ जमा हो गई। छत्तीसगढ़ी अंदाज में स्वागत के लिए कई नृत्य दल यहां बुलाए गए थे। सोनिया और राहुल के यहां पहुंचते ही उनके समर्थन में नारे लगे। यहां से वे निजी रिसॉर्ट के लिए रवाना हुए हैं। इसके बाद वे महाधिवेशन स्थल जाएंगे।

सोनिया कल और राहुल 26 को करेंगे संबोधित

अभी जो जानकारी मिल रही है, उसके मुताबिक कल यानी 25 फरवरी को दोपहर 11.30 बजे सोनिया गांधी महाधिवेशन को संबोधित करेंगीं। जबकि राहुल गांधी 26 फरवरी को पहले सत्र में महाधिवेशन को संबोधित करेंगे।

स्टीयरिंग कमेटी की बैठक में बोले खड़गे

इससे पहले, स्टीयरिंग कमेटी की बैठक में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि अधिवेशन इस लिहाज से खास है कि आज से करीब 100 साल पहले 1924 में महात्मा गांधी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए थे। तब यह महाधिवेशन मेरे गृह राज्य कनार्टक के बेलगांव में हुआ था। उन्होंने कम समय में कांग्रेस को गरीब, कमजोर तबकों, गांव-देहात और नौजवानों को एक साथ जोड़कर एक आंदोलन बना दिया था। 100 साल बाद उसी संकल्प की जरूरत है। ये उनके प्रति हमारी सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी।

कांग्रेस के हर महाधिवेशन में कुछ अहम फैसले हुए हैं। जिससे हमारा संगठन आगे बढ़ा। कुछ अधिवेशन मील के पत्थर बने। राहुल गांधी ने कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ो यात्रा से देशभर में जो ऊर्जा भरी और महंगाई, बेरोजगारी और आर्थिक मुद्दों पर जिस तरह जागरूकता फैलाई है, उस जोश को हमें बनाए रखना है।

महात्मा गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने से अपनी तुलना कर रहे मल्लिकार्जुन खड़गे

खड़गे ने कहा कि ये अधिवेशन इस लिहाज से खास है कि आज से करीब 100 साल पहले 1924 में महात्मा गांधी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए थे। अपने शुक्रवार के संबोधन के दौरान उन्होंने चार सूत्रीय एजेंडा निर्धारित किया। कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में उन्होंने महात्मा गांधी का उदाहरण दिया।

महात्मा गांधी का क्यों दिया उदाहरण?

उन्होंने कहा, “ये अधिवेशन इस लिहाज से खास है कि आज से करीब 100 साल पहले 1924 में महात्मा गांधी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए थे। तब यह महाधिवेशन मेरे गृह राज्य कनार्टक में बेलगांव में हुआ था। उन्होंने कम समय में कांग्रेस को गरीब कमजोर तबकों, गांव देहात और नौजवानों को एक साथ जोड़कर एक आंदोलन बना दिया था। 100 साल बाद उसी संकल्प की जरूरत है। ये उनके प्रति हमारी सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी।”

सम्मेलन में चर्चा के लिए 6 विषय निर्धारित किए गए

खड़गे ने सदस्यों को ‘खुले तौर पर बोलने और सामूहिक निर्णय लेने’ का सुझाव देते हुए खुलासा किया कि इस साल की बैठक के शीर्ष एजेंडे में कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) का चुनाव था। उन्होंने कहा, “हमारा दूसरा विषय 85वीं कांग्रेस का एजेंडा तय करना है और तीसरा विषय कांग्रेस पार्टी के संविधान में संशोधन करना है। अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण एजेंडा हमारे प्रस्तावों से संबंधित है। इस सम्मेलन में चर्चा के लिए 6 विषय निर्धारित किए गए हैं।

ये विषय हैं राजनीतिक, आर्थिक, अंतर्राष्ट्रीय मामले, किसान और खेत मजदूर, सामाजिक न्याय और युवा अधिकारिता।” कांग्रेस अध्यक्ष ने संचालन समिति से उपरोक्त विषयों पर बनाए गए 6 मसौदा प्रस्तावों को लेने का आग्रह किया। खड़गे ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की ऊर्जा का भी जिक्र किया। उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान महंगाई, बेरोजगारी और आर्थिक मुद्दों पर जागरूकता बढ़ाने के लिए राहुल गांधी द्वारा दिखाई गई ऊर्जा का उदाहरण देते हुए पार्टी सदस्यों से उत्साह बनाए रखने का आग्रह किया।

खड़गे ने दिया राहुल गांधी की ऊर्जा का उदाहरण

उन्होंने कहा, ”राहुल गांधी ने कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ो यात्रा से देश भर में जो ऊर्जा भरी और महंगाई, बेरोजगारी और आर्थिक मुद्दों पर जिस तरह जागरूकता फैलाई है, उस जोश को हमें बनाए रखना है। हमें सामूहिक रूप से यहां कई फैसले लेने हैं, जिनसे हमारी पार्टी और हम सबका भविष्य जुड़ा है। यह सम्मेलन ऐसे समय में हो रहा है जब इस देश के सामने कई गंभीर चुनौतियां हैं। लोकतंत्र और संविधान खतरे में है।

संसदीय संस्थाएं भी गंभीर संकट से जूझ रही हैं। राजनीतिक गतिविधियों पर भी नजर रखी जा रही है। इस संबंध में हमें बहुत कुछ सोचना होगा और अपने विचारों को तथ्यों के साथ आगे बढ़ाएं क्योंकि पूरे देश की निगाहें इस सम्मेलन पर टिकी हैं।”

Related Articles

Back to top button