गांधी परिवार का समर्थन किसी को नहीं, मुझे हटने का अनुरोध कई वरिष्ठ नेताओं ने राहुल से किया ….. खड़गे और थरूर ने कही बड़ी बात

नई दिल्ली  

कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव शशि थरूर vs मल्लिकार्जुन खड़गे हो गया है। दोनों कैंडिडेट विरोधी की भावना से बचते हुए इस चुनाव को पार्टी को आगे ले जाने का जरिया बता रहे हैं। मल्लिकार्जुन खड़गे ने मंगलवार को कहा कि यह चुनाव निष्पक्ष होने जा रहा है और सभी लोग मिलकर पार्टी को आगे ले जाएंगे। हम अपने वसूलों के लिए लड़ते रहेंगे। सभी लोग कांग्रेस पार्टी को मजबूत बनाने की कोशिश करेंगे। गांधी परिवार के करीबी खड़गे ने कहा कि हमारी पार्टी की अध्यक्ष (सोनिया गांधी) ने चुनाव घोषित किया है। उन्होंने इलेक्शन अथॉरिटी बनाया, हर जगह से डेलीगेट्स को इलेक्ट करके वोटर लिस्ट तैयार करवाई। उसमें जो 9100 डेलीगेट्स हैं, वे अगले अध्यक्ष का चुनाव करेंगे। खड़गे ने साफ कहा कि इस चुनाव में गांधी परिवार शामिल नहीं है। किसी को भी उनका समर्थन नहीं है।

 कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहे शशि थरूर ने दावा किया है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने राहुल गांधी से उनकी उम्मीदवारी वापस लेने की मांग की थी। चुनाव प्रचार के हिस्से के रूप में केरल में मौजूद सांसद शशि थरूर ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि राहुल गांधी ने कहा था कि वह थरूर को पर्चा वापस लेने के लिए नहीं कहेंगे क्योंकि चुनाव से सबसे पुरानी पार्टी को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि उन्होंने मुझे याद दिलाया कि वह पिछले 10 साल से ऐसा कहते आ रहे हैं कि पार्टी अध्यक्ष पद के लिए मुकाबला होना चाहिए।

चुनाव से पीछे हटकर विश्वासघात नहीं करना चाहता…
इससे पहले, थरूर ने कहा कि उन्होंने कभी भी पार्टी के बड़े नेताओं से समर्थन की उम्मीद नहीं की थी और अब भी नहीं करते हैं, लेकिन उन्हें सभी लोगों के साथ की जरूरत है। थरूर ने यह बयान ऐसे समय पर दिया है जब केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के. सुधाकरन ने सार्वजनिक रूप से यह घोषणा की है कि वह थरूर के प्रतिद्वंद्वी मल्लिकार्जुन खड़गे का समर्थन करेंगे। तिरुवनंतपुरम से लोकसभा सदस्य थरूर ने कहा कि वह चुनाव से पीछे हटकर उन लोगों के साथ विश्वासघात नहीं करना चाहते जो अब तक उनका समर्थन करते आ रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘मैं पार्टी के बड़े नेताओं से किसी तरह के समर्थन की उम्मीद नहीं कर रहा था और अब भी नहीं कर रहा हूं। वास्तव में, पिछले दिनों मैंने नागपुर, वर्धा और हैदराबाद में पार्टी के कार्यकर्ताओं से मुलाकात की थी। कार्यकर्ता मुझसे चुनाव लड़ने और इससे पीछे नहीं हटने के लिए कह रहे हैं।’ थरूर का कहना था, ‘मैंने उन्हें भरोसा दिलाया है कि मैं पीछे नहीं हटूंगा। मैं उन लोगों के साथ विश्वासघात नहीं करूंगा जिन्होंने अब तक मेरा समर्थन किया है। मुझ पर उनका जो विश्वास है वही मुझे आगे बढ़ने की ताकत देता है।’

 

Related Articles

Back to top button