गृह मंत्री शाह से पलानीस्वामी की मुलाकात ,कावेरी के पुनरुद्धार के लिए हस्तक्षेप का अनुरोध

नई दिल्ली

अन्नाद्रमुक से अलग हुए वरिष्ठ नेता ओ पनीरसेल्वम के साथ नेतृत्व को लेकर चल रहे संघर्ष और पार्टी के पूर्व मंत्रियों पर सतर्कता छापों के बीच, पार्टी के अंतरिम महासचिव के पलानीस्वामी ने राष्ट्रीय राजधानी में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की और कहा कि उन्होंने राजनीति पर चर्चा नहीं की।

उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान शुरू की गई दो प्रमुख परियोजनाओं के लिए केंद्र के दखल की मांग की थी और तमिलनाडु में कथित रूप से बिगड़ती कानून-व्यवस्था की स्थिति पर भी ध्यान देने की मांग की थी, विशेष रूप से ड्रग्स के संदर्भ में जो उनके मुताबिक छात्रों के लिए बिना किसी बाधा के उपलब्ध है।

पलानीस्वामी ने संवाददाताओं को बताया, “यह एक शिष्टाचार भेंट थी। मैंने गृह मंत्री से गोदावरी-कावेरी नदी जोड़ने की परियोजना में तेजी लाने तथा तमिलनाडु के वास्ते पानी सुनिश्चित करने के साथ ही गंगा की तर्ज पर नादानथाई वाझी कावेरी के पुनरुद्धार के लिए हस्तक्षेप का अनुरोध किया।”

पलानीस्वामी के साथ इस दौरान राज्य के पूर्व मंत्री एस पी वेलुमणि और सी वी षणमुगम भी मौजूद थे।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि नदी जोड़ने की योजना विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने के चरण में है। उन्होंने कहा कि गृह मंत्री से इन दोनों योजनाओं का कार्यान्वयन तेज करने का अनुरोध किया गया।

जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्होंने अपनी बैठक के दौरान तमिलनाडु में हाल के राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा की थी, उन्होंने कहा, “नहीं, हमने राजनीति पर चर्चा नहीं की। यह एक शिष्टाचार भेंट थी।”

उन्होंने कहा कि उनकी अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने की कोई योजना नहीं है।

उन्होंने नेतृत्व संकट पर टिप्पणी करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि मामला विचाराधीन है।

जब एक पत्रकार ने पार्टी (अन्नाद्रमुक) को एकजुट करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम के राज्य के प्रस्तावित दौरे पर उनकी राय मांगी तो पलानीस्वामी ने पलटवार करते हुए कहा, “आपको उनसे पूछना चाहिए”।

Related Articles

Back to top button