Political News: विधानसभा में पुलिस ने लगाए बैरिकेड, मीडिया पर पाबंदी, स्पीकर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश

Political News: बजट सत्र के चौथे दिन कांग्रेस ने विधानसभा स्पीकर गिरीश गौतम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया। नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने विधानसभा के पीएस एपी सिंह को अविश्वास प्रस्ताव की सूचना दी।

MP Political News: उज्जवल प्रदेश, भोपाल. मध्यप्रदेश विधानसभा में बजट सत्र के चौथे दिन कांग्रेस ने विधानसभा स्पीकर गिरीश गौतम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया। नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने विधानसभा के पीएस एपी सिंह को अविश्वास प्रस्ताव की सूचना दी। इसमें 48 विधायकों के सिग्नेचर हैं।

विधानसभा में पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा ने कहा, स्पीकर की कुर्सी किसी दूसरे को देकर सदन चलाना चाहिए। हंगामे होने पर कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित कर दी गई। गुरुवार को स्पीकर ने कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी के निलंबन का फैसला सुनाया था। इसके बाद से ही कांग्रेस के तमाम विधायकों ने पटवारी के साथ खडे़ रहकर सदन में लड़ाई लड़ने का ऐलान किया था।

पटवारी के निलंबन पर कमलनाथ ने कहा, ये नहीं चाहते कि इनकी बातों का खुलासा हो। नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह बोले- भ्रष्टाचार छिपाने का काम सरकार करती है, स्पीकर साथ देते हैं। संसदीय कार्यमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा, अविश्वास प्रस्ताव लाना ही था तो मेरे खिलाफ लाते। मूल कार्य तो संसदीय कार्यमंत्री का था।

मीडिया को अंदर जाने से रोका, धरने के बाद जाने दिया

विधानसभा में आज मीडिया पर पाबंदी भी लगा दी गई थी। पुलिस ने बैरिकेड कर बाहर ही रोक दिया था। पुलिसकर्मियों का कहना था कि स्पीकर ने आदेश दिया है कि जहां बाइट होती है, उस कक्ष के अलावा कहीं और कवरेज नहीं किया जाएगा। इस पर पत्रकार धरने पर बैठ गए। संसदीय कार्यमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने आकर धरना खत्म कराया। बोले- स्पीकर को इसकी जानकारी नहीं थी।

धानसभा अपडेट्स…

  • सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने स्पीकर से कहा- हमने आपके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दिया है।
  • स्पीकर बोले- मुझे नहीं मिला, जब आएगा, तब देखेंगे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा- हमने आपके कार्यालय में अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया।
  • सज्जन सिंह वर्मा ने कहा- मेरी मांग है कि सदन में स्पीकर की कुर्सी किसी दूसरे को देकर सदन चलाना चाहिए।
  • नरोत्तम मिश्रा ने स्पीकर से कहा- निलंबन का फैसला मेरा था, न कि आपका। आपने तो स्वीकार किया।
  • कांग्रेस विधायकों ने संसदीय कार्यमंत्री की गुंडागर्दी नहीं चलेगी के नारे लगाने शुरू कर दिए।
  • हंगामे के बीच 5 मिनट के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी गई। बाद में इसे दोपहर 12 बजे तक बढ़ा दिया गया। प्रश्नकाल नहीं हुआ।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा, भ्रष्टाचार छिपाने में साथ देते हैं स्पीकर

विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने अपनी गरिमा के विपरीत निर्णय लिया है। उल्टा चोर कोतवाल को डांटे। शिवराज सिंह द्वारा सामान्य प्रशासन विभाग में दिए उत्तर में खुद लिखा- सरकारी पैसे का दुरुपयोग किया गया। भाजपा कार्यालय में जो बैठकें और सम्मेलन होते हैं, उनके लिए करोड़ों रुपए सरकारी खजाने से खर्च किए गए हैं। ये प्रजातंत्र में लूट और भ्रष्टाचार है। भ्रष्टाचार छिपाने का काम सरकार करती है, अध्यक्ष साथ देते हैं। चोरी सरकार करे, माफी जीतू पटवारी और कांग्रेस के लोग क्यों मांगें।

नरोत्तम मिश्रा बोले, अविश्वास प्रस्ताव संसदीय कार्यमंत्री के खिलाफ लाना था

कांग्रेस के अविश्वास प्रस्ताव लाने के फैसले पर संसदीय कार्यमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा, अध्यक्ष की आंशिक भूमिका थी, मूल कार्य तो संसदीय कार्यमंत्री का था। सदन ने मतदान के बाद उन्हें (जीतू पटवारी) निलंबित किया था। अध्यक्ष ने निलंबित नहीं किया। उन्होंने तो खेद व्यक्त करने के लिए कहा था। प्रस्ताव लाना ही था तो संसदीय कार्यमंत्री के खिलाफ लाते।

Related Articles

Back to top button