राहुल-प्रियंका की मुश्किलें और बढ़ीं: ‘कांग्रेस मुक्‍त भारत’ करती AAP

 नई दिल्ली

पांच विधानसभा चुनावों के नतीजे कांग्रेस के लिए झटके के रूप में आए, जो 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए अपनी संभावनाओं को फिर से जीवित करने की फिराक में थी। भाजपा विरोधी राजनीति के आधार पर कांग्रेस आम आदमी पार्टी (आप) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से उभरती चुनौती को खत्म के लिए अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रही थी, लेकिन निराशा हाथ लगी। कांग्रेस उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में 'एंटी-इनकंबेंसी' के राइट साइड में थी, क्योंकि वह इन राज्यों में सत्तारूढ़ भाजपा की प्रमुख प्रतिद्वंद्वी रही। चुनावी रूप से अहम उत्तर प्रदेश में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ता संघर्ष करते भी नजर आए। कांग्रेस नेताओं ने भी कृषि कानूनों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया, जिन्हें आखिरकार केंद्र ने निरस्त कर दिया गया। कांग्रेस यूपी में बढ़त बनाने की बजाय ऐतिहासिक निचले स्तर पर सिमट गई, जिससे इसके पुनरुद्धार का कार्य असंभव नहीं तो और भी कठिन हो गया।

दिग्गज नेताओं की हार ने कांग्रेस की चुनौती बढ़ाई
पंजाब में आप का उदय कांग्रेस के लिए एक और चिंताजनक संकेत है। कांग्रेस को एक ऐसी प्रतियोगिता में खुद को पुनर्जीवित करना मुश्किल लगता है जिसमें मजबूत स्थानीय खिलाड़ी हैं। अब पंजाब में आम आदमी पार्टी की व्यापक जीत और मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू सहित कांग्रेस के शीर्ष नेताओं के हारने से पार्टी आलाकमान की चुनौती बढ़ गई है।
 

AAP नेता पार्टी को 'राष्ट्रीय शक्ति' बता रहे
पंजाब में अपनी सफलता के साथ ही आप नेता पार्टी को 'राष्ट्रीय शक्ति' के रूप में देख रहे हैं और इसके कांग्रेस की जगह लेने की बात कर रहे हैं। उनका यह भी कहना है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भविष्य में भाजपा के प्रमुख प्रतिद्वंद्वी होंगे। AAP नेता राघव चड्ढा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को लेकर कहा कि अगर लोग मौका दें तो वह 2024 में प्रधानमंत्री की बड़ी भूमिका में होंगे।

ममता भी खुद को मोदी के विकल्प के तौर पर देख रहीं
तृणमूल कांग्रेस के नेता पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इस भूमिका में देखना चाहते हैं और उन्होंने भाजपा के खिलाफ व्यापक विपक्षी एकता की जरूरत की बात कही है। उन्होंने शिवसेना और एनसीपी के नेताओं से मुलाकात की है और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव व तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के साथ भी बातचीत की है। 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले प्रतिस्पर्धा के साथ-साथ विपक्ष में मंथन भी दिखाई देता है। AAP और तृणमूल कांग्रेस दोनों ही भाजपा के प्रमुख चुनौती के रूप में देखे जाने के इच्छुक हैं, एक ऐसी भूमिका जिसे कांग्रेस अब तक स्वीकार करती रही है।

Related Articles

Back to top button