सुनील जाखड़ हुए बागी! नहीं दिया कांग्रेस के कारण बताओ नोटिस का जवाब

चंडीगढ़
 
पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ कांग्रेस के खिलाफ बागी सुर अपनाते नजर आ रहे हैं। खबर है कि उन्होंने पार्टी की तरफ से दिए गए शोकॉज नोटिस का भी जवाब नहीं दिया है। हाल ही में हुई कांग्रेस की अनुशासन समिति की बैठक में जाखड़ को पार्टी विरोधी गतिविधियों और दलित समुदाय को को लेकर की गई टिप्पणी के संबंध में नोटिस थमाया गया था। उन्हें सोमवार तक नोटिस का जवाब दाखिल करना था। बातचीत में उन्होंने कहा, 'मैंने अभी प्रतिक्रिया नहीं दी है।' हालांकि, उन्होंने इस मामले पर आगे जानकारी नहीं दी। जाखड़ के अलावा पार्टी ने केरल से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केवी थॉमस पर भी वाम दल के कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर नोटिस जारी किया गया था।

11 अप्रैल को दिल्ली में हुई बैठक में तारिक अनवर, जेपी अग्रवाल और अंबिका सोनी भी शामिल हुए थे। मीटिंग के बात अनवर ने कहा था, 'हम दोनों नेताओं को नोटिस भेज रहे हैं और उन्हें एक सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने के लिए कहा गया है। पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान सुनील जाखड़ के बयानों ने पार्टी को नुकसान पहुंचाया है।'

 
खास बात है कि बीते कुछ समय से जाखड़ पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ मुखर रहे हैं। वह चन्नी को पार्टी का दायित्व भी बता चुके हैं। उन्होंने पूर्व सीएम को लेकर ट्विटर पर लिखा था, 'संपत्ति, क्या मजाक कर रहे हैं? भगवान का शुक्र है कि CWC में पीबीआई लेडी ने उन्हें राष्ट्रीय संपत्ति घोषित नहीं किया, जिन्होंने पहली बार उन्हें सीएम के तौर पर प्रस्तावित किया था। वह उनके लिए संपत्ति हो सकते हैं, लेकिन पार्टी के लिए केवल दायित्व हैं। शीर्ष नेतृत्व नहीं, बल्कि उनके खुद के लालच ने उन्हें और पार्टी को नीचे कर दिया।'

इसके अलावा दलित समुदाय को लेकर जाखड़ की तरफ से की गई टिप्पणी ने भी विवाद खड़ा कर दिया था। तीन बार के विधायक रहे जाखड़ ने यह भी दावा किया था कि हिंदू होने के चलते उन्हें पार्टी का मुख्यमंत्री चेहरा नहीं माना गया। हाल ही में जाखड़ की तरफ से दिए गए बयानों को लेकर चन्नी ने राहुल गांधी से भी मुलाकात की थी।

 

Related Articles

Back to top button