यह अहंकार में रहने का समय नहीं, उपराष्ट्रपति चुनाव से दूरी पर मार्गरेट अल्वा ने दी ममता बनर्जी को नसीहत

नई दिल्ली
उपराष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा ने मतदान से दूर रहने के तृणमूल कांग्रेस के फैसले पर निराशा व्यक्त की है। मार्गरेट अल्वा ने ममता बनर्जी को नसीहत देते हुए कहा है कि यह अहंकार या क्रोध का समय नहीं है। मुझे विश्वास है कि ममता बनर्जी विपक्ष के साथ खड़ी रहेंगीं। मार्गरेट अल्वा ने ट्वीट कर कहा, 'टीएमसी का उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से दूर रहने का फैसला निराशाजनक है। यह समय अहंकार या क्रोध का समय नहीं है। यह समय साहस, नेतृत्व और एकता है। मुझे विश्वास है कि ममता बनर्जी, जो कि साहस की प्रतिमूर्ति हैं, विपक्ष के साथ खड़ी रहेंगी।'

पार्टी को लूप में नहीं रखने से टीएमसी नाराज
पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की अगुवाई तृणमूल कांग्रेस ने उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से दूर रहने का फैसला किया है क्योंकि वह पार्टी को लूप में रखे बिना विपक्षी उम्मीदवार का फैसला करने के तरीके से सहमत नहीं है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को टीएमसी सांसदों की बैठक के बाद मतदान से दूर रहने का निर्णय लिया। टीएमसी ने अपना विरोध भी दर्ज कराया है कि ममता बनर्जी से परामर्शस किए बिना संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार की घोषणा कैसे की गई।

कांग्रेस बोली- विपक्ष एकजुट होकर काम करे
तृणमूल कांग्रेस के उपराष्ट्रपति चुनाव से दूरी के फैसले पर कांग्रेस भी हैरान है। पार्टी का कहना है कि इसकी वजह का पता लगाया जाएगा। खास बात है कि पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ दल के इस कदम को विपक्षी एकता के लिए झटके के तौर पर भी देखा जा रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, 'हम चाहते हैं कि विपक्ष एकजुट होकर काम करे। हम टीएमसी की तरफ से लिए इस फैसले का कारण पता लगाने की कोशिश करेंगे।'

Related Articles

Back to top button