UP हार के बाद जयंत चौधरी ने RLD की सभी इकाइयां और कार्यकारिणी भंग

लखनऊ

 उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) विधानसभा चुनाव में इस बार राष्ट्रीय लोकदल (Rashtriya Lok Dal) ने राज्य में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा. हालांकि पार्टी को इसका कोई खास फायदा नहीं हुआ और उसे करारी हार का सामना करना पड़ा. अब चुनाव परिणाम सामने आने के बाद रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी (Jayant Choudhary) ने बड़ा फैसला लिया है. 

क्या लिया फैसला
जयंत चौधरी ने विधानसभा चुनाव में पार्टी के हार के बाद एक निर्देश जारी किया है. पार्टी अध्यक्ष के निर्देशानुसार रालोद यूपी के प्रदेश, क्षेत्रीय, जिला व सभी फ्रंटल संगठनों को भंग कर दिया गया है. पार्टी अध्यक्ष का ये निर्देश तत्काल प्रभाव से लागू हुआ है. माना जा रहा है कि पार्टी अध्यक्ष ने ये फैसला विधानसभा चुनाव में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद लिया है. 

किसके साथ था गठबंधन
इस बार राष्ट्रीय लोकदल समाजवादी पार्टी गठबंधन का हिस्सा थी. जिसमें सुभाषपा और प्रसपा समेत कुल चार पार्टियां थीं. जबकि दूसरी तरफ बीजेपी के साथ अनुप्रिया पटेल की अपना दल और डॉ. संजय निषाद की पार्टी थी. बीजेपी गठबंधन को राज्य में प्रचंड बहुमत मिला है. 

रालोद को कितनी मिली सीट
उत्तर प्रदेश में बीजेपी गठबंधन को कुल 273 विधानसभा सीटों पर जीत मिली है. जबकि सपा गठबंधन को कुल 125 सीटें मिली हैं. हालांकि राष्ट्रीय लोकदल को केवल आठ सीटों पर ही संतोष करना पड़ा है. वहीं सुभासपा को भी केवल छह सीट ही मिली है.

रालोद ने बुलाई विधायकों की बैठक

इसी के साथ रालोद ने अपने विधायक दल की बैठक बुलाई है. बैठक 21 मार्च को होगी. बैठक में सभी नवनिर्वाचित विधायकों को लखनऊ बुलाया गया है. राष्ट्रीय लोकदल प्रदेश कार्यालय पर यह बैठक होगी. बैठक में जयंत चौधरी अध्यक्षता करेंगे. समाजवादी पार्टी ने भी 21 मार्च को सभी विधायकों को लखनऊ बुलाया है.  

Related Articles

Back to top button