Chanakya Niti : इस तरह की महिलाएं होती है धोखेबाज, इनके झांसे में न आएं

Chanakya Niti in Hindi | chanakya neeti: व्यक्ति के जीवन में उसके जीवन के सुख-दुख उसके साथी से ही जुड़े होते हैं। हालांकि आचार्य चाणक्य ने सुखी जीवन के लिए कई मंत्र बताए। वही चाणक्य ने धोखेबाजों से सावधान रहने को भी कहा था।

Chanakya Niti | chanakya story : आचार्य चाणक्य कहते हैं, वैवाहिक जीवन या प्रेम में खुशी इस बात पर निर्भर करती है कि आपका पार्टनर कैसा है। जहां एक अच्छा पार्टनर आपको ऊंचाइयों तक ले जा सकता है वहीं एक बुरा पार्टनर आपको और आपके परिवार को तबाह कर सकता है।

हर किसी की किस्मत में अच्छी पत्नी या वफादार पति नहीं होता। आचार्य चाणक्य ने प्रेम के वैवाहिक जीवन में कुछ ऐसे धोखेबाजों की पहचान की है।

त्याग – Chanakya Niti

प्यार या पति पत्नी के रिश्ते में प्यार के साथ ही त्याग की भावना सबसे ज्यादा मायने रखती है. अगर आपकी पत्नी या पति में ये भावना नहीं है तो वो कभी भी धोखेबाजी कर सकता/ सकती है. त्याग दोनों तरफ से होना चाहिए पति और पत्नी दोनों को समयानुसार और जरुरत पड़ने पर वैवाहिक जीवन में त्याग करना ही पड़ता है, दोनों में से जो ऐसा नहीं करता है, आचार्य चाणक्य के अनुसार वो विश्वास के लायक नहीं है.

Also Read: Priyanka Gandhi in Jabalpur: प्रियंका गांधी ने भगवान से पहले खुद ली आरती, भाजपा बोलीं चुनावी हिंदू

चरित्र और स्वभाव

एक महिला की पहचान उसके चरित्र और स्वभाव से होती है. अगर आपको लगता है कि आपके पार्टनर का चरित्र और स्वाभाव ठीक नहीं है तो ऐसी महिला से तुरंत दूर हो जाना चाहिए. ऐसी महिला उस सांप के समान है जो कभी भी बिल से निकलकर ठस सकती है.

गुण

त्याग,चरित्र और स्वभाव के अलावा, व्यक्ति के गुण भी किसी रिश्ते में बेहत अहम हैं. आचार्य चाणक्य कहते हैं कि एक स्त्री के गुण ही परिवार और समाज के निर्माण में सहायक होते हैं. सद्गगुण वाली स्त्री जहां पति और परिवार के लिए भाग्यशाली होती है तो वहीं अवगुण वाली स्त्री परिवार और समाज का नाश कर सकती है.

Also Read: Ayodhya Ram Mandir: 22 को अयोध्या मंदिर में विराजमान होंगे रामलला

स्वार्थ- Chanakya Niti

एक स्वार्थी स्त्री कभी भी अच्छी पत्नी या मां नहीं हो सकती है. त्याग का भाव ही एक महिला को पुरुष से ज्यादा वफादार बनाता है. ऐसी स्त्री जो सिर्फ खुद के बारे में ही सोचे वो कभी भी धोखा दे सकती है. अपने स्वार्थ के लिए वो किसी भी हद तक जा सकती है.

आचार्य चाणक्य करते हैं कि दुष्ट पत्नी, झूठा मित्र, धूर्त सेवक और सर्प इन चार चीजों पर कभी दया न करें. ये आपके जीवन के लिए बहुत बड़ा खतरा कभी भी हो सकते है. अगर आप इनके साथ संबन्ध बनाए रखने की कोशिश करेंगे तो अपने लिए आप स्वयं आने वाली मुसीबत को दावत दे रहे होंगे. ऐसे लोगों के साथ रहना मृत्यु को गले लगाने जैसा है.

Gold Silver Price Today 12 June 2023: आज सस्ते रेट पर सोना-चांदी खरीदने का सुनहरा मौका

Back to top button