Mahashtami : शारदीय नवरात्रि के आठवें दिन होती है माता महागौरी की उपासना

आज हम आपको बताने जा रहें हैं की महा अष्टमी (Mah Ashtami) कब है, हिंदी में जाने की महाअष्टमी 2022 (Mahashtami 2022) की पूजा विधि, मंत्र, व्रत विधि के बारे में. माता रानी का कौन सा रूप की पूजा होती है जाने सब कुछ.

शारदीय नवरात्रि के आठवें दिन को महाष्टमी (Mahashtami) के नाम से जाना जाता है। नवरात्रि की अष्टमी तिथि में माता महागौरी (Durga Ashtami) की उपासना की जाती है। महा अष्टमी 2022 (Mah Ashtami 2022) और नवमी के दिन कन्या पूजन का विशेष महत्व है। इस साल अष्टमी तिथि 2 अक्टूबर को पड़ रही है। महाष्टमी 2022 के दिन मिट्टी के नौ कलश रखे जाते हैं और देवी दुर्गा के नौ रूपों का ध्यान कर उनका आह्वान किया जाता है। महाष्टमी के दिन मां दुर्गा पूजा के नौ रूपों की पूजा होती है।

कैसा है महागौरी का स्वरुप (kaisa hai mahaagauree ka svarup)

devi Mahagouri

महागौरी का रंग पूर्णत: गोरा है इसी कारण इन्हें महागौरी या श्वेताम्बरधरा भी कहा जाता है। इनके रंग की उपमा शंख, चन्द्र देव और कन्द के फूल से की जाती है। मां शैलपुत्री की भांति इनका वाहन भी बैल है। इसलिए इन्हें वृषारूढ़ा भी कहा जाता है। मां के हाथ में दुर्गा शक्ति का प्रतीक त्रिशूल है तो दूसरे हाथ में भगवान शिव का प्रतीक डमरू है। अपने सांसारिक रूप में महागौरी उज्जवल, कोमल, श्वेत वर्णी तथा श्वेत वस्त्रधारी और चतुभुर्जा हैं।

महाष्टमी पूजा (mahashtami puja)

mahashtami के दिन स्नान आदि करने के बाद मां दुर्गा पूजा की षोडशोपचार विधि से पूजा की जाती है। मां गौरी की पूजा पीले या सफेद वस्त्र धारण करके करनी चाहिए। मां के समक्ष दीपक जलाएं और उनका ध्यान करें। पूजा में मां महागौरी को श्वेत या पीले फूल और मिठाई अर्पित करें। उसके बाद इनके मंत्रों का जाप करें। अगर पूजा मध्य रात्रि में की जाए तो इसके परिणाम ज्यादा शुभ होंगे। अष्टमी तिथि के दिन मां महागौरी को नारियल का भोग लगाना चाहिए। इससे मां शीघ्र प्रसन्न होती हैं और भक्तों की हर मनोकामना पूरी करती हैं।

Also Read: Navratri 2022: जानिए क्यों मनाई जाती है नवरात्रि, जाने घटस्थापना का शुभ मुहूर्त

मां महागौरी की पूजा से मिलते हैं लाभ (Benefits of worshiping Maa Mahagauri)

मां गौरी श्वेत वर्ण की हैं और श्वेत रंग में इनका ध्यान करना अत्यंत लाभकारी होता है। मां महागौरी की पूजा करने से विवाह से संबंधित बाधाएं दूर होती हैं और मनचाहा विवाह हो जाता है। साथ ही शुक्र से संबंधित समस्याएं भी हल होती हैं। व्यक्ति के पाप नष्ट होते हैं और जीवन में सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है। मां की कृपा से जीवन के कष्ट, दुख, और परेशानियां दूर होते हैं और शत्रु पर विजय प्राप्त होती है।

महागौरी का बीजमंत्र (Mahagauri’s Beej Mantra)

सर्वमङ्गलमङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके
शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते

महागौरी के इस मंत्र का 21 बार जप करके लाभ उठाना चाहिए।

कन्या पूजन का महत्व (kanya poojan ka mahatv)

Mahashtami

देवी मां की पूजा के साथ ही कुमारियों और ब्राह्मणों को भोजन भी कराना चाहिए। विशेष रूप से कुमारियों को घर पर आदर सहित बुलाकर उनके हाथ-पैर धुलवाकर, उन्हें आसन पर बिठाना चाहिए और उन्हें हलवा, पूड़ी और चने का भोजन कराना चाहिए। भोजन कराने के बाद कुमारियों को कुछ न कुछ दक्षिणा देकर उनके पैर छूकर आशीर्वाद भी लेना चाहिए। इससे देवी मां बहुत प्रसन्न होती हैं और मन की मुरादें पूरी करती हैं।

महाष्टमी मंत्र (mahashtami mantra)

ओम् देवी महागौर्यै नम:

श्वेते वृषेसमारूढा श्वेताम्बरधरा शुचि:

महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा

या देवी सर्वभूतेषु मां महागौरी रूपेण संस्थिता

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

Also Read: Navratri : क्या नवरात्रि में भी की जाती है मां सरस्वती की पूजा?

महागौरी की आरती  (Aarti of Mahagauri)

जय महागौरी जगत की माया । जय उमा भवानी जय महामाया ।।

हरिद्वार कनखल के पासा । महागौरी तेरा वहां निवासा।।

चंदेकार्ली और ममता अंबे । जय शक्ति जय जय मां जगदंबे ।।

भीमा देवी विमला माता । कोशकी देवी जग विखियाता ।।

हिमाचल के घर गोरी रूप तेरा । महाकाली दुर्गा है स्वरूप तेरा ।।

सती सत हवन कुंड मे था जलाया । उसी धुएं ने रूप काली बनाया।।

बना धर्म सिंह जो सवारी मै आया । तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया।।

तभी मां ने महागौरी नाम पाया। शरण आने वाले का संकट मिटाया।।

शनिवार को तेरी पूजा जो करता। मां बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता।।

चमन बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो । महागौरी मां तेरी हरदम ही जय हो  ।।

दुर्गा अष्टमी पर अपनों को भेजें ये शुभकामना संदेश (Maha Ashtami Wishes Images Quotes Photos)

Happy Durga Ashtami

हे मां तुमसे विश्वास ना उठने देना,
तेरी दुनिया में भय से जब सिमट जाऊ,
चारो ओर अंधेरा ही अंधेरा घना पाऊ,
बन के रोशनी तुम राह दिखा देना।
Happy Durga Ashtami 2022

 

मिलता है सच्चा सुख केवल,
मैया तुम्हारे चरणों में,
यह विनती है हर पल मैया,
रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में
दुर्गाष्टमी 2022 की शुभकामनाएं

 

Happy Durga Ashtami-1

सरस्वती का हाथ हो माँ गौरी का साथ हो,
गणेश का निवास हो,
और माँ दुर्गा के आशीर्वाद से
आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो !
दुर्गा अष्टमी की शुभकामनाएं

 

माता आई है, खुशियों के भंडार लाई है
सच्चे दिल से तो मांग कर देखो
मां की तरफ से कभी ना नहीं होगी
तो प्रेम से बोलोजय माता दी
महाष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Join Our Whatsapp Group