क्रोध पर नियंत्रण के उपाय बताये सीहोर वाले पंडित प्रदीप जी मिश्रा ने

Astro Tips to Control Anger: जिस व्यक्ति को अधिक क्रोध आता है , चिड़चिड रहता , परिवार वालो के साथ अच्छी बनती नहीं है तो उनके लिए कुछ उपाय है अगर आप ये उपाय कर लेते है तो निश्चित ही आप का क्रोध शांत हो जायेगा। और आप एक सज्जन पुरुष बन जाओगे।

Pradeep Mishra Upay: अक्सर हम सभी को हर रोज किसी न किसी बात पर गुस्सा आ ही जाता है। यह एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। और हम इसे कण्ट्रोल भी कर लेते है , परन्तु कुछ लोग इसे कण्ट्रोल नही कर पाते है। इसके अनेको कारण होते है। आज Pandit Pradeep Mishra ji Sehore Wale ने शिवमहापुराण की महिमा से क्रोध शांत करने का अचूक उपाए बतया है।

क्रोध शांत करने के उपाय बताने से पहले हम जान लेते है कि क्रोध से व्यक्ति पर क्या असर पड़ता है: –

  • यदि कोई व्यक्ति लगातार गुस्सा करता है तो उसे सर दर्द की शिकायत हो सकती है
  • क्रोध व्यक्ति को अवसादग्रस्त भी कर सकता है
  • क्रोध करने वालों को हाई ब्लड प्रेशर की बिमारी भी हो सकती है
  • क्रोधी लोगों को मधुमेह (डाइबिटीज) होने का खतरा बढ़ जाता है
  • क्रोध करने वालों की फेफड़ो की कार्य क्षमता भी प्रभावित होती है

इसलिए हमें क्रोध नही करना चाहिए कुछ उपाय है जिनसे आप क्रोध को शांत कर सकते हो ।

शिव महापुराण के अनुसार पंडित प्रदीप जी मिश्रा ने बताया उपाय

पहला उपाय :- जिस व्यक्ति को अधिक क्रोध आता है उसके लिए प्रमुख उपाय यह है कि बेलपत्री वृक्ष के नीचे जौ के आटे का चौमुखी दीपक बनाकर उसमें सरसो का तेल डालकर उसमें एक काली तिल तथा एक फूल डालकर जो व्यक्ति अधिक क्रोध या चिड़चिड़ करता है उसका नाम तथा गौत्र बोलकर किसी भी महीने की शिवरात्रि के दिन इस दीपक को बेलपत्र के वृक्ष के नीचे रख दे इससे जो व्यक्ति अधिक क्रोध करता है उसका क्रोध जरुर शांत हो जाता है

दुसरा उपाय :- दुसरा उपाय यह है कि कभी बद्रीनाथ जाओ तो वहां ताप्ती कुंड के सामने नरसिंह शिला है वहा जाकर जो व्यक्ति अधिक क्रोध करता है वो वक्ति एक मौली लेकर उसको सिक्के पर लपेटकर श्रम्बेश्वर महादेव का स्मरण करते हुए उस मौली को नरसिंह शिला पर फेक दे इस उपाय से भी व्यक्ति को क्रोध व चिड़चीड़ से मुक्ति मिल जाएगी।

तीसरा उपाय :- चावल की एक पोटली लेकर श्रम्बेश्वर महादेव का स्मरण करते हुए जिस व्यक्ति को अधिक क्रोध आता हो उसके हाथो से वो पोटली शिवजी के मन्दिर में रख दी जाती हैं तो इससे भी उसका क्रोध मिट जायेगा।

चौथा उपाय :- जिसका भी पुत्र क्रोधी हो , चिड़चिड़ा हो , जिद्दी हो , अपसब्द कहने वाला हो, गलत संगत में पड़ गया हो इसके लिए उपाय यह हैं कि किसी भी महीने की शिवरात्री को शंकर के मंदिर में जाकर चंदन व शहद लेकर अपने बेटे के हाथो से मंदिर के शिवलिंग पर चंदन व शहद का लेपन करे इससे भी क्रोध , चिड़चिड़ , व गलत संगत से मुक्ति मिल जाएगी।

क्रोध शांत करने का मंत्र

ॐ गतक्रोधाय नम:
वैदिक विधान के अनुसार इस अचूक मंत्र का प्रतिदिन 108 बार 5 मालाओं में जप करना चाहिए। दरअसल प्राचीन ऋषि और आधुनिक विज्ञान का भी यही मानना है कि मस्‍तिष्‍क की तंत्रिकाओं के जरिए गुस्‍से पर ना सिर्फ काबू पाया जा सकता है, बल्‍कि अपनी खुशियों को बढ़ाया भी जा सकता है।

पंडित प्रदीप मिश्रा ने बताया शिवलिंग पर अर्पित जल पीने से क्या होता है ?

Show More

Related Articles

Back to top button
Join Our Whatsapp Group