कलाकारों पर डायरिया की मार, 235 साल में पहली बार टली रामलीला

वाराणसी 
235 साल में पहली बार रामनगर में रामलीला को टाल दिया गया है क्योंकि राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न का किरदार निभाने वाले चारों कलाकार डायरिया का शिकार हो गए हैं। संक्रमण का शिकार हुए चारों कलाकारों को लाल बहादुर शास्त्री सरकारी अस्पतला में इलाज के लिए भर्ती किया गया है। 45 दिन तक चलने वाली रामनगर रामलीला को यूनेस्को द्वारा अनोखी वैश्विक सांस्कृतिक धरोहर के रूप में पहचान मिली है।  
 

बुधवार को, मलही टोला में डायरिया संक्रमण फैलने के बाद रामलीला के फुलवारी प्रकरण का प्रदर्शन नहीं किया जा सका, जहां कलाकारों की टीम ने धर्मशाला में डेरा डाला था। लक्ष्मण का किरदार निभाने वाले लड़के की स्थिति में सुधार के बाद, प्रकरण गुरुवार को आयोजित किया जाना था, लेकिन प्रसिद्ध रामलीला के निर्धारित समय के बाद तीन घंटे बाद ही यह शुरू हो सकता था। 

रामलीला का आयोजन पूरे शहर को एक ओपनएयर सेट में बदल देता है और हजारों की संख्या में दर्शक यहां आते हैं। 31 दिन तक चलने वाली इस रामलीला में अलग-अलग शहरों से कलाकार अभिनय करने आते हैं। रामनगर रामलीला प्रभारी मनोज श्रीवास्तव ने कहा, 'इस रामलीला के 235 सालों में, एक बार भी लीला का प्रदर्शन टाला नहीं गया था। लेकिन, इस बार चार मुख्य पात्रों का किरदार निभाने वाले कलाकारों को डायरिया हो गया।' 

रामनगर पालिका परिषद के अध्यक्ष रेखा शर्मा ने दावा किया कि उनकी ओर से कोई चूक नहीं हुई है। वहीं, मुख्य चिकित्सा अधिकारी वीबी सिंह द्वारा बनाई गई डॉक्टरों की टीम ने क्षेत्र में सर्वेक्षण किया और पाया कि यहां दूषित जल की आपूर्ति हो रही है क्योंकि भूमिगत पाइपलाइनें क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं। 
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button