दो बार में पार्क से चुरा ले गए ‘हिरण’

 गाजियाबाद 
शहर को सुंदर व हराभरा बनाने के लिए मेरठ तिराहे पर सौंदर्यीकरण का कार्य पिछले दिनों शुरू किया गया। यहां पर हरी-भरी घास के बीच हिरण के 3 पुतले लगाए गए थे। सोमवार रात चोरों ने इन पुतलों को अपने निशाने पर रखा। बकायदा दो शिफ्ट में इनको चुराया गया। दूसरी बार चोरी करने आए चोरों की गार्ड के साथ जमकर हाथापाई भी हुई। लेकिन गार्ड को सिर्फ एक हिरण की सींग ही हाथ लगी, बाकी चोर ले उड़े। गार्ड राजेश ने पास की पुलिस चौकी में जाकर तहरीर दी है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।  
 
देर रात 2 बजे स्कूटी से आए बदमाश 
गार्ड राजेश ने बताया कि रात के करीब दो बजे एक स्कूटी पर दो युवक आए। आकर पहले ही वह वहां रखे गए गमले को उठाना शुरू किया। जब उन्हें रोका तो उन्होंने कहा कि केवल देख रहे हैं। इसके बाद वह वहां से चले गए। तब तक गार्ड वहां से हटकर थोड़ी दूर चला गया लेकिन तभी अचानक स्कूटी आई और सीधे हिरण और उसके बच्चे को उठाकर स्कूटी पर रखकर फरार हो गए। पीछे से चिल्लाते हुए गार्ड दौड़ा लेकिन गाड़ी निकल गई। 100 नंबर पर फोन किया, पुलिस आई लेकिन कुछ पता नहीं चल सका। 

दोबारा फिर सुबह पांच बजे आए 
दोबारा दोनों युवक सुबह करीब 5 बजे आए। वह आते ही पार्क में बचे हुए एक हिरण को उठाकर भागने लगे। गार्ड ने उन्हें देख लिया और दौड़ाया। हाथापाई शुरू हुई। एक युवक ने डंडे से गार्ड को पीटना शुरू कर दिया। छीना-झपटी के दौरान हिरण की सींग टूटकर गार्ड के हाथ में आ गई। इतने में बदमाश स्कूटी स्टार्ट करके फरार हो गए। गार्ड ने पुलिस चौकी में तहरीर दी है। 

परेशान हो उठे जीडीए अधिकारी
28 अगस्त को जीडीए वीसी रितु माहेश्वरी ने इस पार्क का लोकार्पण किया था। मेरठ तिराहे पर लाखों रुपए खर्च करके जीडीए ने सौंदर्यीकरण का काम करवाया है। हिरण के पुतले चोरी होने से जीडीए के अफसरों की टेंशन बढ़ गई है, क्योंकि अभी वहां पर महंगे गमले रखे होने के साथ ही साथ कई कीमती चीजें लगी हुईं हैं। अब वहां पर सुरक्षा व्यवस्था को और मजबूत किए जाने की तैयारी चल रही है। 

दोबारा लगेंगे हिरण 
जीडीए के सूत्र बताते हैं कि यहां पर दोबारा हिरण के पुतले लगाए जाएंगे। इसके लिए जीडीए के उद्यान विभाग की तरफ से काम किया जा रहा है। 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Join Our Whatsapp Group