बेटी का जन्‍मदिन मनाने आए एसएसबी जवान की घर से घसीटकर नक्‍सलियों ने की थी हत्‍या

पटना 
बिहार के जमुई जिले में सशस्‍त्र सीमा बल के जवान की हत्‍या के मामले में माओवादियों ने क्रूरता की सारी हदें पार दी थीं। बेटी का जन्‍मदिन मनाने के लिए छुट्टी पर अपने घर आए जवान को माओवादियों ने सोमवार को उसके घसीटकर बाहर निकाला और गोली मार दी। मृतक जवान की पहचान जिले के पांडेठीका गांव के सिकंदर यादव के रूप में हुई है और वह बिहार के मधुबनी जिले में स्थित एसएसबी की 48वीं बटैलियन में तैनात थे।  
 
इस हत्‍याकांड की जांच कर रहे एसएचओ (बरहट) सुनील कुमार ने मंगलवार को बताया, 'सिकंदर की उस समय हत्‍या की गई जब उनका परिवार बेटी का चौथा जन्‍मदिन मना रहा था।' उन्‍होंने बताया कि सिकंदर की हत्‍या से पहले दो माओवादी उनकी तलाश में पुलिस यूनिफॉर्म में उनके घर आए। जैसे ही वह घर से बाहर आए 20 अन्‍य माओवादियों ने उन्‍हें पकड़ लिया और बंदूक की नोक पर घसीटकर ले गए। 

पुलिस का मुखबिर बता दी क्रूर सजा 
सुनील कुमार ने कहा, 'सिकंदर को उनके घर से कुछ ही दूरी पर कई गोलियां मारी गई।' गांववालों ने दावा किया है कि माओवादियों में महिलाएं भी शामिल थीं। उन्‍होंने बताया कि हत्‍या के समय माओवादी उनको पुलिस का मुखबिर बता रहे थे और कहा कि वे इसकी सजा दे रहे हैं। हत्‍या करने के बाद माओवादी शव वहीं सड़क पर छोड़कर नजदीक के जंगल में फरार हो गए। 

सुनील कुमार ने मंगलवार को बताया कि नक्सलियों की संख्या 20 से 25 बताई जा रही है। शव को पुलिस ने बरामद कर लिया है और नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी की जा रही है। घटनास्थल से पुलिस ने एक पर्चा बरामद किया है, जिसमें नक्सलियों ने हत्या की जिम्मेदारी लेते हुए मृतक जवान पर पुलिस मुखबिरी की आरोप लगाया है। मृतक जवान सिंकदर यादव 15 सितंबर को ही छुट्टी पर घर आए थे। 
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button