वैट के जमाने में शुरू हुए फर्जीवाड़े पर GST के जमाने में कार्रवाई, 24 करोड़ का लगाया अर्थदंड

हाथरस
 हाथरस में एक बड़ी कार्रवाई करते हुए एक फर्म पर 24 करोड़ का अर्थदंड लगाया गया है। इस ये फर्म फर्जी बिलों के जरिए धोखाधड़ी करती है। यहां तक की ऐसी कोई फर्म चलती भी नहीं मिली। वैट के अंतर्गत खोली गई एक फर्म के जीएसटी में माईग्रेट होने के बाद बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। हाथरस स्टेट जीएसटी के अधिकारियों ने बड़ी कार्रवाई करते हुए फर्जी फर्म पर 24 करोड़ से अधिक का अर्थदंड लगाया है। इस फर्म को शहर की एक कॉलोनी में संचालित दर्शाया गया था, लेकिन मौके पर कोई फर्म संचालित ही नहीं थी।

ऑयरन स्टील में बोगस बिल आदि का कारोबार करने वाली एक फर्म पर बड़ी कार्रवाई की गई है। इस फर्म फर्जीवाड़े की शुरुआत वैट के जमाने से हुई थी। जो बाद में जीएसटी में माइग्रेट हो गई। शहर के माहेश्वरी कॉलोनी इगलास अड्डा पर केशव माधव स्टील के नाम से एक फर्म का संचालन दर्शाया गया। इस फर्म का मालिक जनपद इटावा का रहने वाला है। फर्म की एक शाखा को इटावा में दर्शाया गया था। फर्म में अधिक क्रय विक्रय होने के बाद विशेष अनुसंधान शाखा इटावा ने इटावा में छापेमारी की। जांच में पता चला कि हाथरस में माहेश्वरी कॉलोनी में मुख्य फर्म है। इस पर विशेष अनुसंधान शाखा मथुरा ने माहेश्वरी कॉलोनी में छापामार कार्रवाई की तो यहां फर्म नहीं मिली। किराए पर ली गई एक जगह पर घासपूस उग रही थी और ताला लगा हुआ था।

 

Related Articles

Back to top button