अजमेर: भीड़ में भडकाऊ भाषण देने वाले दो रिमांड पर, दो को न्यायिक अभिरक्षा में भेजा

अजमेर
दरगाह के बाहर भीड़ में भड़काऊ नारेबाजी के मामले में दरगाह थाना पुलिस द्वारा पकड़े गए खादिम समेत चार आरोपियों में से दो को अदालत ने न्यायिक अभिरक्षा में भेजा है और दो आरोपितों को पुलिस रिमांड पर लेकर पुलिस पूछताछ की जा रही है। इस बीच उदयपुर में हुई निर्दोष निहत्थे व्यापारी कन्हैयालाल साहू (टेलर) की निर्मम एवं बर्बरता पूर्वक हत्या के विरोध में सकल हिन्दू समाज अजमेर द्वारा श्रद्धाजंलि प्रतीक स्वरूप शहर के व्यापारिक प्रतिष्ठान 3 जुलाई को प्रातः 7 बजे से 12 बजे तक बंद रखे जाएंगे।

अजमेर पुलिस के मुताबिक 17 जून को ख्वाजा साहब की दरगाह के निजाम गेट के बाहर भीड़ में भड़काऊ भाषण देने का वीडियो सामने आया था। वीडियो के आधार पर पुलिस ने खादिम मोहल्ला निवासी खादिम फखर जमाली, फूल गली निवासी ताजीम सिद्दिकी, भट्टा बस्ती जयपुर निवासी मोइन और गुजरात निवासी रियाज, गिरफ्तार किया था। वीडियो के आधार पर अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है।

इसी दौरान कुछ खादिमों द्वारा निजाम गेट पर पूर्व से निर्धारित मौन जुलूस की शर्तों का उल्लंघन करते हुए वहां भाषण दिया। इसके लिए रिक्शे पर लाउडस्पीकर लगाया। ऐसे में धार्मिक स्थल से हिंसा के लिए भीड़ को उकसाने और हत्या का आह्वान करने पर मामला दर्ज किया गया था। पुलिस ने आरोपियों को पकड़कर न्यायालय के समक्ष पेश किया जहां से न्यायालय ने खादिम मोहल्ला निवासी खादिम फखर जमाली, फूल गली निवासी ताजीम सिद्दिकी को पुलिस रिमांड पर सौंप दिया अन्य दो भट्टा बस्ती जयपुर निवासी मोइन और गुजरात निवासी रियाज को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर अन्य नेटवर्क की तलाश में जुटी है।

उल्लेखनीय है कि 28 जून को टेलर कन्हैयालाल की हत्या से सम्पूर्ण हिन्दू समाज में अति रोष व्याप्त है एवं कन्हैयालाल द्वारा बार-बार अपनी जान को खतरा होने की आशंका के बावजूद भी प्रशासन उनको दी जा रही धमकी की अनदेखी कर रहा था, जिसका परिणाम कन्हैयालाल को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इस घटना से समस्त राजस्थान का हिन्दू समाज एवं व्यापार जगत का प्रत्येक व्यापारी आहत है एवं इस जघन्य हत्याकांड के विरोध में यह स्वयं स्फूर्त 3 जुलाई रविवार को पांच घंटे के बंद का आह्वान किया है। जिसे अजमेर के प्रत्येक व्यापारी ने स्वयं ही अपना प्रतिष्ठान बंद रखने का निर्णय लिया है।

सकल हिन्दू समाज की इस सांकेतिक बंद के माध्यम से व्यापारी कन्हैयालाल के हत्यारों को शीघ्र न्यायिक प्रक्रिया के अन्तर्गत मृत्युदंड दिलाया जाए एवं इस साजिश में लिप्त अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार किया जावें ताकि मृतक कन्हैयालाल के परिजनों को न्याय मिल सकें एवं उन्हें सुरक्षा प्रदान की जावें। सकल हिन्दू समाज इस बात की भी मांग करता है कि राजस्थान में विगत कुछ वर्षों से सुनियोजित हिन्दू समाज के व्यक्तियों पर हो रहे जान व माल के नुकसान को भी तुरन्त रोका जाये, हिन्दू त्योहारों एवं उत्सवों पर पूर्ण सुरक्षा प्रदान की जाये ताकि हिन्दू समाज के लोग स्वाभिमान पूर्वक अपना जीवन जी सके। इस सांकेतिक बंद को शहर के सभी व्यापारिक संगठनों, हिन्दू समाज की सभी जाति बिरादरियों के पदाधिकारियों ने अपना समर्थन दिया है।

Related Articles

Back to top button