ज्ञानवापी सर्वे से पहले भगवा दुपट्टा में महिला ने सड़क पर पढ़ी नमाज

वाराणसी
वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे से पहले एक चौंकाने वाली घटना हुई है। मस्जिद के बाहर ही सड़क पर एक महिला नमाज पढ़ने के लिए बैठ गई। भगवा दुपट्टा ओढ़े पहुंची महिला को पहले विश्वनाथ मंदिर की दर्शनार्थी समझा गया। इसी बीच महिला ने बैरिकेडिंग के बाहर ही सड़क पर बैठकर नमाज पढ़ना शुरू कर दिया। महिला की पहचान जैतपुरा की आयशा बीबी के रूप में हुई है। पुलिस महिला को मानसिक रूप से बीमार बता रही है। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है। वह अपना पता कभी फरीदपुर तो कभी बरेली बताती रही। बाद में उसकी असली पहचान का पता चला। पुलिस उसके परिजनों से बात करने की कोशिश कर रही है। पुलिस ने उसके बैग की तलाशी ली तो उसमें से कई अस्पतालों की पर्ची के साथ ही देवी देवताओं की तस्वीरें भी मिलीं।

चौक पुलिस के अनुसार दोपहर लगभग एक बजे काशी विश्वनाथ मंदिर के गेट नंबर 4 के सामने जब नमाजी ज्ञानवापी मस्जिद में नमाज पढ़ने के लिए जा रहा थे अचानक महिला सड़क के पटरी पर अपना बैग व जूता निकाल कर नमाज पढ़ने जैसी स्थिति में बैठ गई। लगभग 10 मिनट बाद जब वह सामान्य स्थिति में आई तो महिला उप निरीक्षक और महिला सिपाहियों ने उसका बयान लिया।  उसके बैग की तलाशी ली गई तो मानसिक चिकित्सालय वाराणसी, एसएसपीजी अस्पताल, राजकीय महिला चिकित्सालय वाराणसी के मेडिकल रिपोर्ट मिले। इसके अलावा उसके बैग से हिंदू देवी देवताओं की फोटो, काफी दवाएं प्राप्त मिलीं। वोटर आईडी कार्ड  व जाति प्रमाण पत्र भी प्राप्त हुआ है।

महिला ने पूछताछ में बताया कि मेरे पति की पहली पत्नी से 07 बच्चे हैं। जिन्होंने मुझे घर से निकाल दिया है। मैं मानसिक रूप से परेशान रहती हूं। फरीद बाबा मजार जो पंजाब में है ने रात में स्वप्न दिया था तो मैं यहां नमाज पढ़ने चली आई। महिला को चिकित्सीय सुविधा हेतु महिला आरक्षी के देखरेख में एसएपीजी कबीरचौर रवाना किया गया है। वहीं जुमे की नमाज के लिए ज्ञानवापी में भारी भीड़ उमड़ी। आमतौर पर यहां जुमे की नमाज के लिए तीन से चार सौ नमाजी पहुंचते हैं। सर्वे को लेकर विवाद के बीच शुक्रवार को करीब 2300 से 2400 लोग नमाज पढ़ने पहुंचे। सभी को चेकिंग के बाद अंदर जाने दिया गया। हालांकि काफी ऐसे लोग भी थे जो कुछ देर से पहुंचे और उन्हें बाहर ही रोक दिया गया।

तीन बजे सर्वे के लिए पहुंचेगी टीम
ज्ञानवापी प्रकरण में सिविल जज सीनियर डिवीजन अदालत से नियुक्त कोर्ट कमिश्नर वरिष्ठ अधिवक्ता अजय कुमार मिश्र शुक्रवार को परिसर का सर्वे करेंगे। सर्वे शाम 3 बजे से शुरू होगा। कमिश्नर के साथ मौके पर पक्ष व विपक्ष से 36 सदस्य भी रहेंगे। उधर, विपक्षी अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी के सचिव ने कार्यवाही का विरोध किया। इसको लेकर जिला प्रशासन और पुलिस अलर्ट है।

दिल्ली की राखी सिंह सहित पांच अन्य की तरफ से सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर की अदालत में वाद दाखिल कर शृंगार गौरी के नियमित दर्शन-पूजन व 1991 से पूर्व की स्थिति बहाल करते हुए आदि विश्वेश्वर परिवार के सभी विग्रहों को यथास्थिति में रखने की मांग की गई है। सुनवाई के दौरान वादी ने विग्रहों की वस्तुस्थिति जानने के लिए कोर्ट कमीशन की कार्रवाई शुरू कराने की दरख्वास्त की थी। सर्वे की फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी करायी जाएगी। पूरी कार्रवाई फूलप्रूफ सुरक्षा में होगी। मंदिर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। कोर्ट कमिश्नर ने बताया कि शुक्रवार को निर्धारित समय शाम 4.00 बजे वस्तुस्थिति जांचने की कार्यवाही शुरू होगी। इस प्रकरण में कोर्ट अगली सुनवाई की तिथि 10 मई तय है।

Related Articles

Back to top button