यूपी चुनाव में करारी हार के बाद विधानभवन में कांग्रेस और बसपा से छिन सकते हैं बड़े कार्यालय

 लखनऊ

विधानसभा चुनाव के नतीजों का असर उत्तर प्रदेश विधानभवन में स्थित राजनीतिक दलों के कार्यालयों के आंवटन पर भी पड़ेगा। अब बसपा व कांग्रेस को आवंटित बड़े-बड़े कार्यालय उनसे छिनेंगे। कांग्रेस के अब दो व बसपा का एक विधायक ही है। विधानसभा के विशेष  सचिव बृजभूषण दुबे का कहना है कि ‘ज्यादा विधायकों वाले दल को बड़े कार्यालय आवंटित होते हैं। जिन दलों के विधायकों की संख्या बहुत कम होती है, उन पर विधानसभा अध्यक्ष अपने विवेक से निर्णय लेते हैं। न्यूनतम संख्या के बारे में फिलहाल कोई नियम  प्रचलन में नहीं है।’

असल में अब 8 विधायक वाले राष्ट्रीय लोकदल को नया कार्यालय मिलेगा। 6 विधायक वाली निषाद पार्टी को भी नया कार्यालय आवंटित होगा। पिछली बार रालोद का एक विधायक था। इसलिए दल को कार्यालय आवंटित नहीं हुआ।  बसपा व कांग्रेस  को  संभवत: छोटा कार्यालय अध्यक्ष आवंटित कर सकते हैं। जनसत्ता दल को भी इसी आधार पर कार्यालय उपलब्ध हो सकता है। पिछले विधानसभा चुनाव के बाद सुभासपा व अपना दल सोनेलाल को कार्यालय आंवटित किया गया था। यह इस बार भी बरकरार रहेगा। 

Related Articles

Back to top button