राजस्थान: BJP MP की दिल्ली में बैठक, अटकलों को मिली हवा, BJP प्रदेश अध्यक्ष पूनिया बोले- सकारात्मक संवाद हुआ

जयपुर
राजस्थान के सभी सांसदों की दिल्ली में आज हुई बैठक के बाद सियासी अकटलों का बाजार एक बार फिर गर्म हो गया है। राजस्थान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने ट्वीट कर बैठक के बारे में खुद जानकारी दी है। सतीश पूनिया ने ट्वीट कर लिखा- आज नई दिल्ली में प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह एवं संगठन महामंत्री चंद्रशेखर की उपस्थिति में सांसदों से विभिन्न विषयों पर सकारात्मक संवाद हुआ। एक सप्ताह में सतीश पूनिया के दूसरे दिल्ली दौरे के मायने निकाले जा रहे हैं।

पूनिया का एक सप्ताह में दूसरा दिल्ली दौरा
सतीश पूनिया ने 4 अप्रैल  को भी संसद भवन में पार्टी के नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात की थी। वसुंधरा राजे के बाद सतीश पूनिया का दिल्ली दौरा प्रदेश भाजपा की अंदरूनी खींचतान और गुटबाजी की ओर संकेत कर रहा है। राजस्थान में विधानसभा चुनाव 2023 के लिए मुख्यमंत्री चेहरे के लिए पूर्व सीएम वसुंधरा राजे गुट- गजेंद्र सिंह शेखावत और पूनिया गुट आमने-सामने है।  

अरुण सिंह बोले- CM चेहरे पर निर्णय संसदीय बोर्ड तय करेगा
हालांकि, राजस्थान प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह कह चुके हैं कि प्रदेश में चुनाव से पहले मुख्यमंत्री चेहरे पर निर्णय पार्टी का संसदीय बोर्ड तय करेगा। जबकि चुनाव होने के बाद विधायक दल अपना नेता चुनता है। यही प्रक्रिया राजस्थान में भी अपनाई जाएगी। राजस्थान में विधानसभा चुनाव 2023 के अंत तक चुनान होने है। लेकिन सीएम फेस को लेकर अभी से ही खींचतान तेज हो गई है। वसुंधरा समर्थक राजे को सीएम फेस को चेहरा घोषित करने की मांग कर रहे हैं। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की हाल ही में दिल्ली यात्रा को पार्टी नेतृत्व पर दबाव बनाने के तौर पर देखा जा रहा है। वसुंधरा राजे ने दिल्ली दौरे के दौरान पीएम मोदी समेत केंद्रीय मंत्रियों से संसद भवन में मुलाकात की थी। वसुंधरा राजे के बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने दिल्ली में डेरा जमा दिया है। दिल्ली में हुई बैठक में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, कैलाश चोधरी, अर्जुन मेघवाल, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, सांसद रंजीता कोली, सुमेधानंद सरस्वती और समेत लगभग सभी सांसद शामिल हुए।

समर्थकों में  CM चेहरे को लेकर जंग
विधासभा चुनाव से पहले समर्थकों में मुख्यमंत्री पद के चेहरे को लेकर जंग शुरू हो गई है। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे समर्थक वसुंधरा राजे को सीएम फेस घोषित करने की मांग कर रहे हैं। जबकि विरोधी गुट इसका विरोध कर रहा है। वसुंधरा के धुर विरोधी पूर्व मंत्री घनश्याम तिवाड़ी ने भाजपा के स्थापना दिवस पर बुधवार को कहा कि पीएम मोदी के चेहरे पर ही विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा। तिवाड़ी के बयान के वसुंधरा पर कटाक्ष के तौर पर देखा जा रहा है। शेखावत और पूनिया गुट भी लगातार वसुंधरा के नाम का विरोध कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button