व्यापारी मनीष गुप्ता के हत्याकांड के आरोपी इंस्पेक्टर के मकान पर चला बुलडोजर

  लखनऊ
लखनऊ में मनीष गुप्ता हत्याकांड केस में तिहाड़ जेल में बंद आरोपी पुलिस इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह के मकान पर बुलडोजर चला है. बता दें कि बीते साल गोरखपुर में कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी.

जानकारी के मुताबिक, जगत नारायण सिंह ने लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) से बिना नक्शा पास कराए 3 मंजिल मकान बनवाया था. जिसको लेकर एलडीए ने कई बार जगत नारायण सिंह के यहां नोटिस भी दिया था. जब कोई जवाब नहीं मिला तो एलडीए की टीम मकान गिराने पहुंची.. इसके बाद बुलडोजर से जगत नारायण के मकान को ढहा दिया गया.

जगत नारायण सिंह का यह मकान चिनहट थाना क्षेत्र में है. गोरखपुर के कृष्णा पैलेस होटल में व्यापारी मनीष गुप्ता हत्याकांड में जगत नारायण सिंह समेत छह पुलिसकर्मी जेल में है.

कैसे हुई थी मनीष गुप्ता की मौत
चार्जशीट में आरोप लगाया गया है कि 27 सितंबर को रामगढ़ ताल इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह, फलमंडी पुलिस चौकी प्रभारी उप निरीक्षक अक्षय मिश्रा, विजय यादव और तीन अन्य पुलिसकर्मी कथित रूप से होटल के कमरे में घुस गए थे. यहां मृतक व्यवसायी मनीष गुप्ता अपने दोस्तों के साथ थे. पुलिसकर्मियों ने कथित तौर पर एक बहस के बाद उनकी पिटाई कर दी.

पुलिस होटल के कमरे से बाहर निकली तो अपने साथ मनीष गुप्ता को लहूलुहान हालत में लेकर आई. फिर पुलिसवालों ने मनीष को अधमरी हालत में अपनी गाड़ी में डाला और देर रात उसे मानसी अस्पताल लेकर पहुंचे. लेकिन कुछ देर बाद ही वे मनीष को वहां से बीआरडी मेडिकल कॉलेज लेकर गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

Related Articles

Back to top button