4 इनामी नक्सली हिंसा का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में लौटे, पूना नर्कोम अभियान के तहत सुकमा SP के सामने किया सरेंडर

सुकमा
छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में एंटी नक्सल ऑपरेशन के तहत पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पूना नर्कोम (नई सुबह-नई शुरुआत) अभियान के तहत 4 नक्सलियों ने हिंसा का रास्ता छोड़कर सरेंडर कर दिया। एसपी कार्यालय में समर्पण करने वाले माओवादियों में एक पर 3 लाख व 3 नक्सलियों पर 2-2 लाख रुपये का इनाम घोषित था। सभी लंबे समय से नक्सल संगठन के लिए काम कर रहे थे। समर्पण करने वाले माओवादियों में एक दंपति भी हैं।

सुकमा एसपी सुनील शर्मा ने बताया कि नक्सली मुचाकी सोमड़ा और मुचाकी सोमड़ी को नक्सल संगठन में रहते प्यार हो गया। इसके बाद दोनों ने शादी कर ली, लेकिन संगठन में रहकर अपनी जिंदगी नहीं जी पा रहे थे। इसलिए दोनों ने सरेंडर करने के फैसला लिया। मुचाकी सोमड़ा उत्तर बस्तर डिवीजन प्रेस टीम का कमांडर है, जिस पर 3 लाख रुपये का इनाम घोषित है, जबकि इसकी पत्नी मुचाकी सोमड़ी दो लाख रुपये की इनामी नक्सली है। एसपी ने बताया कि सभी नक्सली कोंटा के भेज्जी इलाके में सक्रिय थे। सभी नक्सलियों को शासन की पुनर्वास नीति का लाभ दिया जाएगा।   

हत्या, लूट आगजनी सहित कई घटनाओं में शामिल
पूना नर्कोम अभियान के तहत माड़वी मुड़ा और पोड़ियम रमेश ने भी सरेंडर किया गया है। दोनों नक्सली भी पिछले कई सालों से नक्सल संगठन में सक्रिय थे। पोड़ियम रमेश प्लाटून नंबर 4 का सदस्य है वहीं माड़वी मुड़ा प्लाटून नंबर 17 सेक्शन 'ए' सदस्य है। दोनों माओवादियों पर 2-2 लाख रुपये का इनाम घोषित है। दोनों नक्सलियों पर फोर्स को नुकसान पहुंचाने, हत्या, लूट, आगजनी सहित कई बड़ी वारदातों में शामिल रहे हैं। कई मामले में वारंटी भी हैं।  

 

Related Articles

Back to top button