कांवर यात्रा के जरिए भाजपा ने किया शक्ति प्रदर्शन

रायपुर
एक ओर जहां कोरोना की रफ्तार फिर से राजधानी रायपुर सहित प्रदेश में पैर पसराना शुरू कर दिया है वहीं दूसरी ओर कांग्रेस और भाजपा दोनों कांवड़ यात्रा के माध्यम से शक्ति प्रदर्शन करने में जुट गए हैं। शुक्रवार को जहां संसदीय सचिव एवं पश्चिम विधानसभा के विधायक ने कांवर यात्रा निकाली थी। वहीं रविवार को पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने खमतराई बाजार से महादेवघाट तक कावंड़ यात्रा निकाली जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह सहित भाजपा के कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। इस दौरान कांवड़ा यात्रा जगह-जगह पर स्वागत किया गया।

कोरोना काल में दो साल तक सावन के महीने में कांवर यात्रा नहीं निकाली गई थी। इस साल कांवर यात्रा के जरिये कांग्रेस और भाजपा के नेताओं में शक्ति प्रदर्शन करने की होड़ लगी है। दो दिन पहले शुक्रवार को संसदीय सचिव एवं पश्चिम विधानसभा के विधायक ने कांवर यात्रा निकाली थी। इसमें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी शामिल हुए थे। अब रविवार को पश्चिम विधानसभा के पूर्व विधायक एवं पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने कांवर यात्रा के जरिए शक्ति प्रदर्शन किया। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री डा रमन सिंह समेत भारतीय जनता पार्टी के अनेक नेता शामिल हुए।

सावन के अंतिम सोमवार से एक दिन पहले रविवार को पूर्व मंत्री राजेश मूणत की अगुवाई में रायपुर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र खमतराई बाजार से महादेवघाट तक भव्य कांवड़ यात्रा निकाली गई। सुबह खमतराई बाजार में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह एवं पूर्व लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत ने भोलेनाथ की पूजा के बाद कांधे पर कांवर थामी और यात्रा का नेतृत्व किया। बोलबम के जयकारों के साथ पीछे पीछे हजारों कांवरिये महादेवघाट के लिए निकल पड़े। यात्रा हनुमान मंदिर गुढि?ारी पहुंची जहां हनुमान जी की पूजा के बाद यात्रा पहाड़ी चौक, कबीर चौक, तेलघानी नाका ओवरब्रिज, आमापारा, लाखेनगर, सुंदरनगर  होते हुए महादेव घाट पहुंची। जहां आमापारा चौक, लाखेनगर चौक, सुंदर नगर चौक पर फूलों की वर्षा कर कांवड़ यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। आमापारा में जैसे ही कांवड़ा यात्रा पहुंची वहां पहले से शेर बने बच्चे व युवाओं ने कांवडि?ों का नाचकर स्वागत किया और महादेवघाट तक उनके साथ गए। कांवर यात्रा के आगे घोड़े और ऊंट पर सवार होकर सनातनी परंपरा का प्रतीक भगवा ध्वज और तिरंगा ध्वज लहराते श्रद्धालुओं में भक्ति उल्लास छाया रहा।

Related Articles

Back to top button