छत्तीसगढ़ में कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 5% बढ़ा

रायपुर
छत्तीसगढ़ में कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 5फीसदी बढ़ा दिया गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार देर रात इसकी घोषणा की। महंगाई भत्ते की यह दर एक मई 2022 से ही लागू हो जाएगी। इस फैसले से राज्य सरकार के विभिन्न स्तर के कर्मचारियों को ढाई हजार से सात-आठ हजार रुपए तक अधिक मिलेंगे।

प्रदेश के अधिकारी-कर्मचारियों के संगठन काफी समय से महंगाई भत्ता बढ़ाने की मांग कर रहे थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कर्मचारियों की ओर से आयोजित सम्मान समारोह में खुशखबरी देने की घोषणा की थी। कर्मचारियों को उम्मीद थी कि एक मई को कैबिनेट में उनके महंगाई भत्ते पर फैसला होगा। मंत्रिपरिषद में इस तरह का प्रस्ताव नहीं आया तो कर्मचारियों में निराशा फैली। देर रात मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महंगाई भत्ता बढ़ाने की घोषणा की।इस बढ़ी दर के साथ राज्य कर्मचारियों का महंगाई भत्ता मूल वेतन का 22प्रश हो गया है। अभी तक उन्हें 17प्रश महंगाई भत्ता मिलता रहा है। यह दर एक मई से ही लागू हो जाएगी।

कर्मचारियों के विभिन्न संगठन केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता मांग रहे हैं। संगठनों का कहना था, केंद्रीय कर्मियों को 34प्रश महंगाई भत्ता मिल रहा है। राज्य सरकार उन्हें केवल 17प्रश महंगाई भत्ता दे रही है। इस बीच आवश्यक वस्तुओं की महंगाई में कई गुने की वृद्धि हो चुकी है। महंगाई भत्ता नहीं बढऩे से उन लोगों को वित्तीय रूप से काफी नुकसान हो रहा है।छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत कंपनी ने पिछले सप्ताह ही कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़ाया है। वहां कर्मचारियों के भत्ते में तीन प्रतिशत की वृद्धि की गई है। उनके महंगाई भत्ते की वर्तमान दर 31प्रशसे बढ़ाकर 34प्रशकर दिया गया। इस फैसले से बिजली कंपनी के 16 हजार कर्मचारियों का फायदा हुआ।

 

Related Articles

Back to top button