खाद-बीज के अभाव में किसान परेशान व चिंतित, 170 मीट्रिक टन यूरिया का हुआ भंडारण

नारायणपुर
जिले में खाद का भंडारण नहीं किये जाने से खरीफ फसल की तैयारी में जुटे किसानों को मांग के अनुसार डीएपी व पोटाश खाद का भंडारण नहीं कराए जाने से भटकना पड़ रहा है। मिली जानकारी के मुताबिक वर्ष 2022-23 में किसानों को भरपूर डीएपी व पोटाश खाद की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के लिए पर्याप्त भंडारण करने का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन इसके एवज में डीएपी व पोटाश खाद का भंडारण नहीं है। किसानों को धान बीज से लेकर दलहन, तिलहन •े बीज की व्यवस्था कराई जानी है, लेकिन मांग के अनुसार बीज का भंडारण भी नहीं है। वहीं दूसरी ओर बीज की कीमतों में बेतहाश वृद्धि होने से किसान परेशान है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के किसानों को लेम्प्स के माध्यम से खाद-बीज •े साथ-साथ ऋण की व्यवस्था कराने का प्रावधान है वर्ष 2022-23 में उर्वरक भंडारण का लक्ष्य 2500  मीट्रिक टन का लक्ष्य रखा गया है, जिसके एवज में महज केवल यूरिया 170 टन खाद का भंडारण ही हो पाया है डीएपी तथा पोटाश खाद की किल्लत से किसान परेशान है। लगातार डीएपी तथा पोटाश की किल्लत के चलते बाजार में इसकी कालाबाजारी कर इसे कई गुना अधिक कीमत में बेचा जा रहा है जिससे किसान परेशान और चिंतित हैं। डीएमओ टेकराम निषाद ने बताया अभी •ेवल 170 मीट्रिक टन यूरिया का भंडारण हो पाया, दो रेक गाडि?ा आई हुई हैं, जिले में डीएपी तथा पोटाश अब तक नही पंहुचा है।

Related Articles

Back to top button