मासूम गिरा बोरवेल में , 22 घंटे से रेक्स्यू ऑपरेशन जारी, गुजरात से रोबेट की टीम को बुलाया

जांजगीर-चांपा
छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले में बोरवेल के गड्ढे में गिरे मासूम को निकालने 22 घंटे से रेस्क्यू अभियान जारी है। बच्चा 80 फीट की गहराई वाले गड्ढे में गिरा है। लगभग 55 फीट तक खुदाई हो चुकी है। बच्चे को निकालने ओडिशा व बिलासपुर से NDRF और SDRF की टीम को भी बुलाया गया है। वहीं गुजरात से रोबेट की टीम भी आ रही है। यह टीम शाम तक गांव पहुंच जाएगी। सूरत के महेश अहीर ने अपने इनोवेशन बोरवेल रेसक्यू रोबेट की विशेषता को लेकर ट्विट किया था, जिसके बाद सीएम भूपेश बघेल ने अफसरों को सूरत के रोबेट विशेषज्ञ से संपर्क करने के निर्देश दिए। इधर रेस्क्यू  ऑपरेशन में अभी कुछ घंटे और लगने की बातें कही जा रही है। मौके पर आईजी, कलेक्टर, एसपी सहित पुलिस व जिला प्रशासन की टीम मौजूद है।

बता दें कि मुताबिक जांजगीर-चांपा जिले के मालखरौदा के पिहरीद गांव में 11 साल का राहुल साहू खेलते-खेलते घर के पीछे की तरफ चला गया। राहुल के पिता रामकुमार उर्फ लाला साहू ने घर की बाड़ी में बोर खुदवाया था। वह बोर फेल हो गया था। बोर को खुला छोड़ दिया गया है। खनन स्थान को मिट्टी से भरा भी नहीं गया है। शुक्रवार की दोपहर बोरवेल के गड्ढे में राहुल गिर गया। परिजन जब बाड़ी की तरफ गए तो बच्चे की रोने की आवाज आई, जिसे सुनकर परिजनों को घटना की जानकारी हुई। घटना की जानकारी मिलते ही कलेक्टर जितेंद्र कुमार शुक्ला, एसपी विजय अग्रवाल, एसडीएम रेना जमील, एडिशनल एसपी अनिल सोनी, तहसीलदार सहित जिला व पुलिस प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची है।  

परिजनों से सीएम ने की वीडियो कॉल पर बात
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि गुजरात से रोबेट की टीम आ रही है। शाम तक पहुंच जाएगी। कटक से भी टीम बुलाया है। देशभर की अच्छी से अच्छी रेस्क्यू टीम को बुलाया गया है, जिससे बालक की जान को बचाई जा सके। सीएम ने भेंट-मुलाकात में जशपुर जाने से पहले अपने निवास कार्यालय से राहुल के परिजनों से वीडियो कॉल पर बात की और कहा कि आप बिलकुल चिंता न करें हम पूरा प्रयास कर रहे हैं कि राहुल का शीघ्र रेस्क्यू हो जाए और वह जल्द ही हम लोगों के बीच सकुशल आए। सीएम ने कहा कि बोरवेल के पैरलल ड्रिलिंग कर 55 फीट की खुदाई हो चुकी है। बोरवेल के पैरलल 60 फीट खुदने के बाद राहुल तक पहुंचने टनल बनाई जाएगी। फिलहाल राहुल को निकालने के लिए तेजी से रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है।

बच्चे को पाइप से ऑक्सीजन दिया जा रहा
बच्चे को पाइपलाइन के जरिए ऑक्सीजन दिया जा रहा है। अभी छह जेसीबी व 3 चैन माउनटेन से बोरवेल के गड्ढे के समानतर गड्ढा किया जा रहा है। बोरवेल में फंसे बच्चे तक रात में खाना भी पहुंचाया गया। बच्चे को सुबह जूस दिया गया। बच्चा अभी सुरक्षित है। बच्चे को रेस्क्यू करने कटक और बिलासपुर से एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया है। सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ राहुल को बोरवेल से निकलने में जुटी हुई है। मिली जानकारी के अनुसार करीब 55 फीट की खुदाई कर ली गई है। अभी 5 से 10 फीट और खुदाई और की जाएगी, जिसके बाद टनल बनाकर राहुल का रेस्क्यू किया जाएगा। मौके पर लोगों की भीड़ भी लगी है, जिन्हें नियंत्रित करने पुलिस बल तैनात है।

राहुल की सलामती के लिए पूजा-पाठ भी शुरू
हादसे के बाद से ही राहुल की मां और उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। हर कोई यह उम्मीद लगाए बैठा है कि जल्दी से राहुल को बाहर निकाल लिया जाए। पूरे गांव के लोग भी रात भर उसी जगह पर टिके हैं, जहां पर बच्चा गिरा है। राहुल अपने मां-बाप का बड़ा बेटा है। राहुल का एक और भाई है, जो उनसे दो साल छोटा है। राहुल के पिता की गांव में बर्तन की दुकान है। बच्चा राहुल चूंकि मूक बधिर है। उसके सकुशल रेस्क्यू के लिए पूरा प्रदेश दुआ कर रहा है। प्रदेश में राहुल की सलामती के लिए पूजा-पाठ भी शुरू हो गया है।  

राहुल को निकालने में कुछ घंटे लगेंगे: कलेक्टर
कलेक्टर जितेंद्र कुमार शुक्ला ने बताया कि अभी 5 से 6 घंटे का वक्त और लग सकता है। राहुल तक पहुंचने शाम से रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है। राहुल अभी सुरक्षित है। कैमरे से उसका मूवमेंट दिख रहा है। उसे केला और जूस पहुंचाया गया है और परिजन से भी आवाज के माध्यम से बात कराई जा रही है, ताकि उसका मनोबल बना रहे। रात लगभग 12 बजे तक राहुल ने हलचल किया था। उसने सुबह भी हलचल किया है। विशेष कैमरे में उसकी हलचल दिख रही है। मौके पर जिला प्रशासन के सभी अधिकारी मौजूद हैं और हर तरह से राहुल को सकुशल बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है।

 

Related Articles

Back to top button