श्रमिक नेता हरिद्वार सिंह जायेंगे इटली, मजदूर संगठन का सम्मेलन रोम में

बिलासपुर
मध्य प्रदेश एटक यूनियन के प्रांतीय अध्यक्ष एवं एसईसीएल के महामंत्री हरिद्वार सिंह 5 मई को विश्व मजदूर संगठन के 18 वे' सम्मेलन में भाग लेने के लिए इटली की राजधानी रोम के लिए रवाना होंगे । योग्यता संघर्ष एवं दूर दृष्टि व्यक्ति को ऊंचाई पर भी ले जाती है और स्वार्थ अंधविश्वास ईर्ष्या व्यक्ति को गड्ढे में भी गिरा देती है । वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ ट्रेड यूनियन की 18 वीं कॉन्फ्रेंस 6  से 8 मई 2022 तक इटली की राजधानी रोम में होने जा रही है। दुनिया के 100 देशों से अधिक देशों के प्रतिनिधि कान्फ्रेंस के भाग लेंगे। अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस के महासचिव अमरजीत कौर ने भारत से 5 प्रतिनिधियों को वर्ल्ड फेडरेशन आफ ट्रेड यूनियन के कान्फ्रेंस में भेजने का प्रस्ताव वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ ट्रेड यूनियन के जनरल सेक्रेटरी जॉर्ज मौरीकोष को भेजा है ।कोल इंडिया ,मध्य प्रदेश एवं एसईसीएल से हरिद्वार सिंह को प्रतिनिधि के रूप  में रोम जाकर वर्ल्ड फेडरेशन आफ ट्रेड यूनियन के 18 वे कान्फ्रेंस में भाग लेने के लिए चयनित किया गया है ।कामरेड हरिद्वार सिंह एटक के राष्ट्रीय वर्किंग कमिटी के मेंबर भी हैं निरंतर संघर्ष एवं अपनी बात को निर्भयता से रखने के कारण न केवल अपने संगठनों में बल्कि मध्य प्रदेश एवं खासतौर से शहडोल संभाग में जाने जाते हैं।

किसान मजदूर खासतौर से कोयला खदान में काम करने वाले ठेका मजदूरों के बारे में हमेशा आवाज बुलंद करते रहते हैं। 2 वर्ष के अंदर मध्य प्रदेश के अंदर 12 जिलों में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका यूनियन जो एटक से संबंधित है खड़ा हुआ है इसका अधिक श्रेय कामरेड हरिद्वार सिंह को जाता है कोयला मजदूरों की लड़ाई में हमेशा अगुआ की भूमिका का निर्वहन करते रहे कुछ घटनाक्रम का जिक्र किया जाए तो हमें लगता है कि मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में हरिद्वार सिंह के अलावे दूसरा कोई नाम नहीं होगा ।1988 में 15 मार्च से 20 मार्च तक छः दिन का राष्ट्रीय हड़ताल कोयला खदान में हुआ था। इंटक यूनियन हड़ताल से बाहर थी। कांग्रेसी सत्ता के दबाव में ट्रेड यूनियन के नेताओं को विपक्षी राजनीतिक नेताओं को गिरफ्तार किया गया था बाकी जगह तो सामान्य गिरफ्तारी हुई थी लेकिन शहडोल जिले के रामनगर थाने में जो अब अनूपपुर जिले में है कामरेड हरिद्वार सिंह एवं एचएमएस सीटू के लगभग 15 ट्रेड यूनियन नेताओं को ना केवल गिरफ्तार किया गया था बल्कि पुलिस ने जबरदस्त लाठीचार्ज किया था यहां तक की समीर घोष नामक व्यक्ति के गुप्तांग में पुलिस ने बिजली का करंट लगा दिया था  जो नपुंसक हो गया था ।

उस समय शहडोल में नामी-गिरामी कलेक्टर स्वर्गीय अजय सिंह यादव थे एक राजनीतिक कार्यकर्ता के रूप में अजय सिंह यादव साहब हरिद्वार सिंह से परिचित थे एवं प्रभावित थे जैसे ही उनको पता लगा कामरेड हरिद्वार सिंह की  गिरफ्तारी हुई है विचलित हो गए 24 मार्च को जेल से छूटने के बाद उन्होंने सीधे शहडोल सर्किट हाउस में सभी नेताओं को बुलाया कामरेड हरिद्वार सिंह को अलग से एक कमरे में बुलाए वे इतने भावुक हुए  उनकी आंखें भर गई वे 25 मार्च को शहडोल से राजनगर शहीद भगत सिंह चौक पर पहुंचे जेल से छूटे नेताओं के सम्मान में 10 हजार से ज्यादा मजदूरों की सभा हुई ।उन्होंने कामरेड हरिद्वार सिंह को बुलाया और उस क्षेत्र के जन समस्याओं पर बारीकी से चर्चा किया उसी दौरान ठेका मजदूर कुरजा खदान में भर्ती को लेकर आंदोलन पर थे हरिद्वार सिंह के ही सुझाव पर 38 ठेका मजदूरों को नियमित भी कर दिया गया था हरिद्वार सिंह के अनुरोध पर राजनगर में आठवीं तक जो कन्या शाला थी उसको 12वीं तक की मंजूरी दिया गया शांति नगर में आदिवासी प्राथमिक स्कूल खोल दी गई सारी बसें जो बिजुरी होकर मनेंद्रगढ़ जाती थी सभी को राजनगर होकर डाइवर्ट कराया गया और दर्जनों सामाजिक काम हरिद्वार सिंह के अनुरोध पर उन्होंने किया 28 मई को कामरेड हरिद्वार सिंह के अनुरोध पर लाइब्रेरी एवं एटक यूनियन ऑफिस कार्यालय का शिलान्यास करने पहुंचे हसदेव क्षेत्र के तत्कालीन महाप्रबंधक स्वर्गीय पी एल माथुर कार्यक्रम की अध्यक्षता की एटक के कामरेड मारकंडेय सिंह की अगुवाई में सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे इस अवसर पर एक सभा का आयोजन किया गया था मुख्य अतिथि तत्कालीन शहडोल के कलेक्टर स्वर्गीय अजय सिंह यादव ने अपने उद्बोधन में हरिद्वार सिंह के गिरफ्तारी का जिक्र करते हुए कहा कि हरिद्वार सिंह की गिरफ्तारी जिला प्रशासन की गलती है।

मैं जिला कलेक्टर हूं अपनी गलती को स्वीकार करता हूं और हरिद्वार सिंह से सार्वजनिक रुप से क्षमा मांगता हूं और आश्वस्त करता हूं कि भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति नहीं होगी। घटना के जिम्मेदार तत्कालीन एसडीओपी श्री देवेंद्र प्रताप सिंह ने श्री हरिद्वार सिंह से पहले ही  तत्कालीन तहसीलदार श्री  एन के पांडे एवं मजदूर प्रतिनिधि श्री अशोक मिश्रा के सामने माफी मांग चुके थे। स्वर्गीय  अजय सिंह यादव ने अपने उद्बोधन में कहा गिरफ्तार तो बहुत नेता थे बहुत लोगों के साथ पुलिस ने टॉर्चर किया है किसी के बारे में मुझे एक शब्द नहीं बोलना है पर दोबारा में दोहरा रहा हूं हरिद्वार की गिरफ्तारी जिला प्रशासन गलती थी अजय सिंह यादव कोई समान्य कलेक्टर नहीं थे उस समय के बीत्त मंत्री पंडित राम किशोर शुक्ला के लड़के ने व्यवहारी में सर्कस में गुंडागर्दी करने के कारण सर्कस के मालिक के शिकायत पर अजय सिंह यादव साहब व्यवहारी पहुंचे पंडित राम किशोर शुक्ला के लड़के को एक झापड़ मारा और नसीहत दिया कि इस तरह की गुंडागर्दी शहडोल जिले में नहीं चलेगी ऐसा दबंग एवं संवेदनशील कलेक्टर का कामरेड हरिद्वार सिंह के प्रति खेद व्यक्त करना किसी ऐतिहासिक घटना से कम नहीं है वे अब इस दुनिया में नहीं है लेकिन उनके परिवार से कामरेड हरिद्वार सिंह के आज भी जीवन संबंध है एक प्रश्न के उत्तर में कामरेड हरिद्वार सिंह ने कहा के समाज के वंचित वर्ग के लिए आवाज उठाना संघर्ष करना संविधान और धर्मनिरपेक्षता को बचाए रखने के लिए शेष जीवन भी लगा देंगे लेकिन सिद्धांतों और विचारधारा से कभी विचलित नहीं होंगे एक कम्युनिस्ट अकेला रहेगा पर बिकाऊ नहीं हो सकता है।

मैं कम्युनिस्ट हूं इस बात पर मुझे फक्र है कोयला मजदूरों के लिए हमेशा मुखर होकर आवाज उठाते हैं 2004 में भी राष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल में कामरेड डी राजा के साथ चीन जाने का मौका मिला था अभी रोम जा रहा हूं सैकड़ों देशों के प्रतिनिधियों को सुनने का मौका मिलेगा बातचीत के क्रम में किस देश में मेहनत कशो की हालत कैसी है जानने का मौका मिलेगा आज मैं बिलासपुर में रहता हूं यहां एसईसीएल के सीएमडी एवं निदेशक गण से बार-बार मिलने की सहूलियत है हमेशा मजदूरों के हित में उनके स्वास्थ्य के बारे में घर के बारे में परिवार के बारे में चिंतन करते रहता हूं चर्चा करता हूं और प्रबंधन को मजदूरों के हित में फैसला लेने के लिए दबाव भी बनाता हूं शायद यही वजह है एटक का राष्ट्रीय नेतृत्व ने मुझे वर्ल्ड फेडरेशन आफ ट्रेड यूनियन की कान्फ्रेंस में भाग लेने के लिए मेरे नाम का चयन किया है मैं अपने संगठन के प्रतिआभार व्यक्त करता हूं एटक के एसईसीएल के साथियों ने जितना संगठन का साथ दिया है व्यक्तिगत तौर से मेरा साथ दिया है उनका भी आभारी हूं तमाम मेरी व्यस्तता  के बावजूद भी मध्य प्रदेश के मजदूरों ने मुझे एटक का प्रांतीय अध्यक्ष बनाया निश्चित रूप से उनका भी आभारी हूं कोल इंडिया के जेबीसीसीआई का सदस्य हूं एटक  राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व सांसद कामरेड रमेंद्र कुमार का मार्गदर्शन हमेशा हमें मिलते रहता है वे मेरे गार्जियन है मैं अपने तमाम दोस्तों का शुक्रगुजार हूं जिनके शुभकामनाओं से मुझे सफलता मिलती है और आज में रोम जा रहा हूं।

Related Articles

Back to top button