पारंपरिक खेलों का महाकुंभ छत्तीसगढ़िया ओलंपिक आज से शुरू

अम्बिकापुर
छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेलों को ग्रामीण क्षेत्र एवं नागरीय क्षेत्रों में प्रोत्साहित करने और खेलों के प्रति जागरूकता बढ़ाने तथा खेल भावना का विकास करने हेतु मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़िया ओलंपिक 2022-23 का आयोजन किया जा रहा है। पहले चरण में राजीव युवा मितान क्लब स्तर पर जिले के 439 ग्राम पंचायतों व नगरीय निकाय के 52 वार्डों में 6 अक्टूबर से छत्तीसगढिया ओलंपिक की शुरुआत होगी। छत्तीसगढ़िया ओलंपिक में 14 प्रकार के पारंपरिक खेलो में बच्चे, युवा व बुजुर्ग भाग लेकर प्रतिभा दिखाएंगे।  

कलेक्टर श्री कुन्दन कुमार ने जिले में छत्तीसगढ़िया ओलंपिक की तैयारी सुनिश्चित करने के निर्देश सर्व सम्बंधित अधिकारियो  को दिए है। उन्होंने जिले वासियो से अपील की है कि छत्तीसढ़िया ओलंपिक में अधिक से अधिक प्रतिभागी भाग लें और लोक खेलों को बढ़ावा देने शासन की इस पहल में सहयोग करें। छत्तीसगढ़िया ओलंपिक में भाग लेने के इच्छुक संबंधित ग्राम पंचायतों व नागरीय निकायो से संपर्क कर सकते है।

 इन 14 लोक खेलों में ले सकेंगे हिस्सा-छत्तीसगढ़िया ओलंपिक में 14 प्रकार के पारंपरिक खेलो को शामिल किया गया है जिसमे  दलीय श्रेणी में गिल्ली डंडा, पिट्ठुल, संखली, लंगड़ी दौड, कबड्डी, खो-खा, रस्सा कस्सी और बांटी शामिल है वही एकल श्रेणी में  बिल्लस,फुगड़ी, गेड़ी दौड़, भंवरा, 100 मीटर दौड और लंबी कूद शामिल किए गए है। छत्तीसगढ़िया ओलम्पिक में 18 वर्ष तकए 18 से 40 वर्ष एवं 40 वर्ष से अधिक आयु के पुरुष व महिला भाग ले सकेंगे जो 6 स्तरों पर आयोजित होंगे। 6 अक्टूबर से 11 अक्टूबर तक राजीव युवा मितान क्लब स्तरए 15 से 20 अक्टूबर 2022 तक जोन स्तर, 27 अक्टूबर से 10 नवंबर तक विकासखंड स्तर, 17 से 26 नवंबर 2022 तक जिला स्तर  5 दिसंबर से 14 दिसंबर तक संभाग स्तर एवं 28 दिसंबर से 6 जनवरी 2023 तक राज्य स्तरीय आयोजन होंगे।

Related Articles

Back to top button