नगर निगम का बजट 15 मार्च को, पार्षद शहर विकास में सार्थक रूप से चर्चा में लें हिस्सा – प्रमोद

रायपुर
रायपुर नगर निगम का बजट 15 मार्च को पेश किया जायेगा। जैसे कि मालूम हो दो साल तक  कोरोनाकाल के चलते एमआईसी से मंजूरी के बाद शासन से स्वीकृति लेकर बजट संचालित किया गया था । अब सब कुछ लगभग सामान्य हो जाने की स्थिति में बजट सभी पार्षद सदस्यों की मौजूदगी में पेश किया जायेगा। जिसका मुख्य एजेंडा नगर निगम सीमा क्षेत्र के लोगों को बेहतर सुविधा मुहैया कराना,राजधानी की नगर निगम के अनुरूप पहचान स्थापित करने में सभी चुने हुए पार्षदों की सहभागिता जरूरी है। बहस या तर्क वितर्क की जगह सार्थक चर्चा में सभी पार्षद खुले रूप से आम बजट में हिस्सा लें तो यह हम सब के लिए एक सकारात्मक संदेश जनता के समक्ष जायेगा। बात रखने के लिए सभी को मौका दिया जायेगा,विकास पैमाना होगा हर वार्ड के कामकाज का इसलिए अपने वार्ड के अलावा वही विषय रखें जो सभी को स्वीकार्य हो। यह भी ध्यान रखें कि राष्ट्रीय स्तर पर रायपुर नगर निगम ने अपने कामकाज से अलग पहचान स्थापित की है,इसकी गरिमा को बनाये रखना हम सब जनप्रतिनिधियों की नैतिक जिम्मेदारी भी है।

रायपुर नगर निगम के सभापति प्रमोद दुबे ने आज पत्रकारवार्ता मे सभी सदस्यों से सहयोग की अपेक्षा जतायी। दुबे ने बताया कि  महापौर एजाज ढेबर  वर्ष 2022- 23 का बजट प्रस्तुत कर अभिभाषण पढ़ेंगे। कोविड काल के 2 वर्ष में एमआईसी द्वारा पारित बजट को शासन से स्वीकृति लेकर अंगीकृत कर वर्षभर कार्य किए गए। दुबे ने सदस्यों से आग्रह किया है कि वे प्रश्नकाल के उपरांत पारित बजट पर चर्चा में भाग लें तथा रायपुर शहर के विकास हेतु अपने सुझाव देवें। सदस्यों के समक्ष प्रथम बार इस बजट में चर्चा होगी क्योंकि 2 वर्षों तक लगातार कोरोना महामारी के कारण सदस्यों ने प्रत्यक्ष सुझाव नहीं दे पाए थे, दुबे ने सभी पार्षदों से अनुरोध किया है कि अपने शहर के साथ-साथ अपने वादों के लिए सकारात्मक सुझाव जरूर देवे।

सभी सदस्यों से उन्होने यह भी कहा है कि तथ्यात्मक पहलुओं पर चर्चा करेंगे तो बेहतर होगा,  साथ ही सदन का समय भी अन्य पार्षदों के चर्चा हेतु प्रदान की जा सकती है एक ही विषय पर बार-बार चर्चा करने से बचना आवश्यक है ताकि सभी सदस्यों को मौका मिल पाए। दुबे ने बताया कि रायपुर शहर महानगर का आकार ले  रहा है अत: चहुमुखी विकास हेतु सदस्यों से चर्चा की अपेक्षा होगी ,खासकर बाजारों के विकेंद्रीकरण एवं व्यवस्थित तथा समन्वित विकास पर केंद्रित कर अपनी बेहतर तैयारी करें।

Related Articles

Back to top button