आजकल राजनीति करने वाले धर्म की बात कर रहे हैं और धार्मिक गुरु चुप बैठे हुए हैं : भूपेश

रायपुर

विवेकानंद विद्यापीठ रायपुर द्वारा संस्कृति विभाग के सहयोग से आजादी के अमृत महोत्सव के तहत राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसका मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वामी विवेकानंद के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ किया। इस दौरान कहा कि स्वामी विवेकानंद जी को युवाओं के आदर्श हैं और छत्तीसगढ़ से उनका गहरा लगाव रहा है। साधु संत के दो ही काम है जगत कल्याण और आत्म उन्नति, यदि आपके मन में घृणा है तो आप साधु नहीं। आजकल राजनीति करने वाले धर्म की बात कर रहे हैं और धार्मिक गुरु चुप बैठे हुए हैं। संसदीय सचिव श्री विकास उपाध्याय कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे।

विवेकानंद विद्यापीठ के विद्यार्थियों ने राज्यगीत और देशभक्ति पूर्ण गीत की संगीतमय प्रस्तुति दी, कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री रामकृष्ण आश्रम,राजकोट के अध्यक्ष श्रीमत् स्वामी निखिलेश्वरानंद ने किया। विवेकानंद विद्यापीठ के सचिव डॉ. ओमप्रकाश वर्मा ने स्वागत भाषण दिया। सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी युवाओं के आदर्श हैं और उन्हें छत्तीसगढ़ से गहरा लगाव रहा है। कलकत्ता के बाद स्वामी विवेकानंद जी ने रायपुर में सबसे ज्यादा समय बिताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने विपक्ष में रहते हुए रायपुर एयरपोर्ट का नाम विवेकानंद के नाम पर रखने के लिए विधानसभा में एक अशासकीय संकल्प लाया था। विवेकानंद जी युवाओं से कहा करते थे कि अच्छे स्वास्थ्य, अच्छे चरित्र का निर्माण हो, साथ ही एक लक्ष्य निर्धारित करके आगे बढने की बात वह करते थे।

 स्वामी रामकृष्ण परमहंस कहते थे कि आप किसी भी पद्धति से प्रार्थना करिए या पूजा करें आप एक ही ईश्वर तक पहुंचेंगे। आप किसी भी रास्ते से चलिए आप पहुंचेंगे एक ही जगह पर, उन्होंने समानता की बात कही जोडने की बात कही, यही हिंदुस्तान की ताकत है। सब को जोडने की बात यदि किसी संत ने कही है तो वह रामकृष्ण परमहंस ने कहीं और उस बात को चरितार्थ करने का काम यदि किसी ने किया तो विवेकानंद की। स्वामी विवेकानंद ने कहा कि पश्चिम के विज्ञान तो हमें स्वीकार करना होगा और भारत के आध्यात्म को पश्चिम को स्वीकार करना होगा। आजकल राजनीति करने वाले धर्म की बात कर रहे हैं और धार्मिक गुरु चुप बैठे हुए हैं। हम हिंदू हैं हमें इस बात पर गर्व है लेकिन कोई बात का यह मतलब नहीं हम किसी और धर्म का अपमान करें। धर्म कभी घृणा की बात नहीं कर सकता, साधु संत के दो काम जगत कल्याण और आत्म उन्नति यदि आपके मन में घृणा है तो आप साधु नहीं।

Related Articles

Back to top button