नियानार धान संग्रहण केंद्र में रखे धान बारिश में भीगने से अंकुरित हुए

जगदलपुर
बस्तर जिले के नियानार धान संग्रहण केंद्र में धान खुले में रखे होने से बीते दिनों हुई बारिश से बड़ी मात्रा में खुले में रखे धान पूरी तरह से भीगने से खराब होने के साथ अंकुरित भी हो गया है। संग्रहण केंद्र में एक चौकीदार के भरोसे ही पूरे धान को छोड़ दिया गया। बारिश से के बाद धान पूरी तरह से भीगने से कुछ जिम्मेदारों ने भले ही कुछ धान के लाट को ढकने का प्रयास किया लेकिन धान को पूरी तरह से नही ढाक पाने से सैकड़ो बोरिया धान भीगने से अंकुरित होकर खराब रहे हैं।

इस मामले को अधिकारियों को अवगत कराया गया तो जल्द ही खराब धान को उठाने एवं मामले में लापरवाही अधिकारियों पर कार्यवाही करने की बात कही जा रही है। किसानों से धान खरीदी करने के बाद धान को संग्रहण केंद्र में रखा जाता है और उसके बाद जमा हुए धान को राइस मिलरों को दिया जाता है। लेकिन अब तक राइस मिलर्स ने धान का उठाव नही किया। बस्तर में मौसम का मिजाज आये दिन बदल रहा है। जिससे नियानार धान संग्रहण केंद्र में खराब हो रहे धान खराब होकर अंकुरित हो रहे हैं, जिसे ध्यान देने वाला यहां कोई नहीं है।

Related Articles

Back to top button