मुख्यमंत्री ने कहा – गाँव के खाना अबड़ सुहाथे, मोल अपन गांव अउ घर के सुरता आगे

रायपुर
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज बालोद जिले के विधानसभा डौंडीलोहारा के ग्राम कुसुमकसा में  किसान पुरषोत्तम जीराम के घर पितर नवमीं के अवसर पर पहुँचकर स्नेहपूर्वक भोजन किया। मुख्यमंत्री जब पुरषोत्तम जीराम  के घर पहुँचे तो घर वालों ने मुख्यमंत्री का घर के देवरावठी में चौक पूरकर जोडा कलश जलाकर पीढ़हा में खड़ेकर ओरछा उतारकर घर में प्रवेश कराया। मुख्यमंत्री जब घर में प्रवेश किए, तब घर  परिवार में एक अलग माहौल बन गया। परिवार के सभी लोगों के चेहरे में सुंदर मुस्कान और खुशियां साफ झलक रही थी।

डौंडीलोहारा के ग्राम कुसुमकसा में  किसान पुरषोत्तम मुख्यमंत्री को जब भोजन परोसा गया तब छत्तीसगढ़ी व्यंजनों से भरी थाली देखकर उन्होंने जीभर कर भोजन किया। पुरषोत्तम जीराम की पत्नी श्रीमती  सावित्रीबाई ने भोजन परोसा। मुख्यमंत्री की थाली में तोरई, बरबटी, प्याज भाजी, लालभाजी,  कोचई पत्ता कढ़ी,  पूड़ी, बड़ा, खीर, चावल- दाल, टमाटर चटनी तवा रोटी, अइरसा, खुरमी सलोनी, पापड़ परोसा गया। मुख्यमंत्री ने पुरषोत्तम के यहां उनके दिवंगत माता स्वर्गीय श्रीमती गनेशी बाई व पिता स्वर्गीय भगवानी राम के नवमीं पितर मिलन के अवसर पर यहां उनके निवास पहुँचे थे। वे यहां जमीन पर बैठकर पीढ़हा के ऊपर फुलकास की थाली से भोजन का आनन्द लिए। मुख्यमंत्री ने ठेठ छत्तीसगढ़ी अंदाज में भोजन ग्रहण किये।  इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा मोला अतक बढि?ा भात साग खवाय हव। मोला अपन गांव अउ घर के सुरता आगे। गांव के साग भात बने सुहाथे। मोला तुंहर इहां पितर खाय के भाग मिलिस। मेहा ओ दाई अउ ददा ल परनाम करत हव। ये बात ल सुनके सावित्री बाई कहिस आज मुख्यमंत्री ह हमर गरीब के कुटिया म आके हमर घर खाना खाय हो हमन ल अबड़  सुग्घर लागथे। हमर अबड़ जनिक भाग के मुख्यमंत्री ल भात साग परोसे के मौका मिलिस। मुख्यमंत्री ने इस दौरान घर वालों से बात कर हाल चाल जाना। मुख्यमंत्री ने कहा मोरो घर के नेवता हेवे हमरो घर आहू।

Related Articles

Back to top button